scorecardresearch
 

नाइट शिफ्ट में काम करने से घट सकती है आपकी उम्र

अगर आप भी ऑफिस में नाइट शिफ्ट करते हैं तो यह नाइट शिफ्ट्स आपकी जिंदगी के लिए खतरनाक हो सकती है. एक ताजा स्टडी के मुताबिक, लगातार नाइट शिफ्ट में बदल-बदल कर काम करने से फेफड़े का कैंसर और हृदयरोग से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं, जो आपकी जल्द मौत की वजह भी बन सकती है.

X
Symbolic Image Symbolic Image

अगर आप भी ऑफिस में नाइट शिफ्ट करते हैं तो यह नाइट शिफ्ट्स आपकी जिंदगी के लिए खतरनाक हो सकती है. एक ताजा स्टडी के मुताबिक, लगातार नाइट शिफ्ट में बदल-बदल कर काम करने से फेफड़े का कैंसर और हृदयरोग से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं, जो आपकी जल्द मौत की वजह भी बन सकती है.

इस स्टडी के मुताबिक, पांच या इससे ज्यादा सालों तक बदल-बदल कर नाइट शिफ्ट में काम करने वाली महिलाओं में हृदयरोग से जुड़ी समस्याओं के कारण मृत्युदर बढ़ा पाया गया, जबकि 15 साल से अधिक समय तक काम करने वाली महिलाओं में फेफड़े के कैंसर से मृत्यु होने की दर में इजाफा देखा गया.

स्टडी में महीने में कम से कम तीन नाइट शिफ्ट करने वालों को शामिल किया गया. हारवर्ड मेडिकल स्कूल की सहायक प्राध्यापिका इवा शेर्नहैमर ने बताया, 'इस स्टडी के परिणाम नाइट शिफ्ट में काम करने और स्वास्थ्य या लंबी आयु के बीच संभावित हानिकारक संबंधों के पूर्व सबूतों को प्रमाणित करते हैं.' नींद और हमारी दैनिक जैविक क्रियाएं हृदय सर्केडियन सिस्टम दिल के स्वास्थ्य और कैंसर के ट्यूमर को बढ़ने से रोकने में बेहद अहम होती हैं.

इवा ने बताया,'चूंकि दुनियाभर में नाइट शिफ्ट में काम करने वाले कर्मचारियों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है, अत: यह अध्ययन संभवत: दुनिया में सबसे बड़े समूह से संबंधित अध्ययन है.' अध्ययन के लिए शोधकर्ताओं ने अमेरिका में नर्सो के स्वास्थ्य संबंधी आंकड़ा रखने वाली संस्था नर्सेज हेल्थ स्टडी (एनएचएस) द्वारा दर्ज 22 वर्ष के आंकड़ों का विश्लेषण किया. इस अमेरिकी संस्था से लगभग 75,000 नर्से पंजीकृत हैं.

विश्लेषण में पाया गया कि छह से 15 सालों तक बदल-बदल कर नाइट शिफ्ट में काम करने वाली नर्सो की मृत्यु दर 11 फीसदी अधिक रही. इनमें दिल की बीमारी से होने वाली मृत्यु की दर 19 फीसदी अधिक पाई गई.

-इनपुट IANS

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें