scorecardresearch
 

चाहिए खुशी, तो एक शाम मोबाइल फोन कीजिए बंद

जिदंगी का अहम हिस्सा बन चुके मोबाइल से दूर होने के ख्याल मात्र से हम गमगीन हो जाते हैं, लेकिन एक अध्ययन के मुताबिक हफ्ते में एक शाम इससे जुदाई आपकी खुशियों को बढा़ सकती है और आपके कामकाज के प्रदर्शन को भी बेहतर कर सकती है.

चाहिए खुशी, तो... चाहिए खुशी, तो...

जिंदगी का अहम हिस्सा बन चुके मोबाइल से दूर होने के ख्याल मात्र से हम गमगीन हो जाते हैं, लेकिन एक अध्ययन के मुताबिक हफ्ते में एक शाम इससे जुदाई आपकी खुशियों को बढा़ सकती है और आपके कामकाज के प्रदर्शन को भी बेहतर कर सकती है.

अध्ययन के लिए हार्वर्ड बिजनेस स्कूल ने बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप (बीसीजी) के 1400 कर्मचारियों पर परीक्षण किया. अनुसंधानकर्ताओं ने उन कर्मियों को हफ्ते में एक बार शाम 6 बजे के बाद स्मार्ट फोन बंद रखने का निर्देश दिया.

प्रो. लेस्ली पेलरे की अगुवाई में यह अध्ययन तीन साल तक किया गया. शुरू में बीसीजी के प्रबंधक इस अध्ययन को लेकर चिंतित थे और उनका कहना था कि अगर इससे कर्मचारियों के प्रदर्शन पर जरा भी फर्क पड़ा तो वे इसे रोक देंगे.

डेली मेल की खबर में बताया गया कि जिनके फोन बंद रहे, वे अपनी नौकरी को लेकर ज्यादा संतुष्ट पाए गए. उन्होंने बताया कि उनके काम और जीवन में ज्यादा संतुलन आया और उनकी कार्य क्षमता बढी़.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें