scorecardresearch
 

शादी के बंधन में नहीं बंधना चाहता मिडिल क्‍लास

एक शोध से पता चला है कि कामकाजी लोग शादी करने के ज्‍यादा इच्‍छुक नहीं होते हैं. और अगर वे शादी कर भी लें तो भी वे बच्‍चे नहीं चाहते. इसके पीछे वजह यह है कि वे वित्तीय परेशानियों से जूझते रहते हैं.

एक शोध से पता चला है कि कामकाजी लोग शादी करने के ज्‍यादा इच्‍छुक नहीं होते हैं. और अगर वे शादी कर भी लें तो भी वे बच्‍चे नहीं चाहते. इसके पीछे वजह यह है कि वे वित्तीय परेशानियों से जूझते रहते हैं.

वर्जिनिया यूनिवर्सिटी और हावर्ड यूनवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने अपने शोध में पाया कि कम वेतन पाने वाले ब्‍ल्‍यू कॉलर वर्कर्स (दिहाड़ी मजदूर) का सार्थक संबंधों से मोह भंग हो गया है.

इस शोध को संचालित करने वाली सारा कोर्से के मुताबिक, 'सीमित संसाधन, काम में असुरक्षा की भावना और अस्थिरता के चलते वर्किंग क्‍लास अपने निकट भविष्‍य में खुद की जीविका को लेकर इतना परेशान रहता है कि वे किसी दूसरे को भौतिक और भावात्‍मक सुख देने के बारे में सोच भी नहीं पाता.'

शोध से यह भी पता चला कि मिडिल क्‍लास वर्कर्स सुरक्षा की भावना से ज्‍यादा अच्‍छे से निपट लेते हैं और यही वजह है कि वे रिश्‍तों में स्थिरता ढूंढ ही लेते हैं.

हावर्ड की समाजशास्‍त्री जेनिफर सिल्‍वा कहती हैं कि लोग आजकल असुरक्षित और अस्थिर माहौल में जी रहे हैं. उन्‍हें अपने लिए भरोसेमंद साथी मिलना मुश्किल लगता है क्‍योंकि उन्‍हें धोखा मिलने का डर सताता रहता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें