scorecardresearch
 
रिलेशनशिप

29 साल में 35 बच्चों का बना पिता, स्पर्म डोनर ने बताया अनुभव

स्पर्म डोनर की कहानी
  • 1/8

कोरोना वायरस की वजह से ज्यादातर चीजें ऑनलाइन हो चुकी हैं. कई बिजनेस ऑनलाइन होने के बाद ज्यादा फल-फूल रहे हैं. अमेरिका के लॉस एंजिल्स के स्पर्म डोनर केली गॉर्डी का बिजनेस भी कोरोना के बाद ऑनलाइन खूब चल रहा है. गार्डी ने ब्रिटिश टीवी स्काई न्यूज को अपने ऑनलाइन स्पर्म डोनेशन के बारे में काफी कुछ बताया है.

Photo: Freepik 

स्पर्म डोनर की कहानी 2
  • 2/8

29 साल के गॉर्डी का कहना है कि वो स्पर्म डोनेशन के जरिए 35 बच्चों के पिता बन चुके हैं. गार्डी ने बताया कि कोरोना वायरस की वजह से उनकी व्यस्तता काफी बढ़ गई है क्योंकि इस दौरान दुनिया भर की महिलाएं उनसे संपर्क कर रहीं हैं. गॉर्डी लॉस एंजिल्स की एक कंपनी में पार्ट टाइम अकाउंटेंट हैं और दो फेसबुक ग्रुप के जरिए स्पर्म ढूंढने वाले पेरेंट्स की मदद करते हैं.

Photo: Freepik 

स्पर्म डोनर की कहानी 3
  • 3/8

गॉर्डी का एक फेसबुक ग्रुप अमेरिका के लोगों के लिए है जबकि दूसरे ग्रुप से वो दुनिया भर के लोगों से जुड़ते हैं. गॉर्डी कभी-कभी अपनी फीमेल क्लाइंट से मिलने भी जाते हैं. गॉर्डी ने बताया कि उन्होंने स्पर्म डोनेट करने का ये काम 22 साल में शुरू किया था.

Photo: Freepik 

स्पर्म डोनर की कहानी 4
  • 4/8

स्काई न्यूज से बात करते हुए गॉर्डी ने कहा, 'मुझे लोगों की मदद करना बहुत अच्छा लगता है. इसी बहाने मुझे नई-नई जगह पर मुफ्त में घूमने का मौका मिल जाता है. कभी-कभी ये मुझे एडवेंचर की तरह लगता है.'
 

Photo: Freepik 

स्पर्म डोनर की कहानी 5
  • 5/8

गॉर्डी ने कहा, 'महामारी के चलते मैं बहुत ज्यादा व्यस्त हो गया हूं. इस समय स्पर्म की मांग करने वाली महिलाओं की संख्या बहुत बढ़ गई है.'

Photo: Freepik 


 

स्पर्म डोनर की कहानी 6
  • 6/8

पिछली कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार, इस महामारी ने लोगों की सेक्स लाइफ पर भी असर डाला है. लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग की वजह से लोग ना तो डेट पर जा पा रहे थे और ना ही उन्हें कोई नया पार्टनर मिल पा रहा था. 
 

Photo: Freepik 

स्पर्म डोनर की कहानी 7
  • 7/8

गॉर्डी ने कहा कि उनके 90 फीसद क्लाइंट आर्टिफिशियल इनसेमिनेशन चाहती हैं जबकि कुछ महिलाएं इसे सेक्स के जरिए करना चाहती हैं. स्पर्म डोनेशन का तरीका कैसा होगा, ये खुद उनकी क्लाइंट ही तय करती हैं. गॉर्डी साल में दो या तीन बार सेक्सुअली ट्रांसमेटेड डिजीज का टेस्ट कराते हैं.
 

Photo: Freepik 

स्पर्म डोनर की कहानी 8
  • 8/8

गॉर्डी का कहना है कि वो स्पर्म के बदले पैसे नहीं लेते हैं लेकिन उनके ट्रैवल का पूरा खर्च उनके क्लाइंट्स उठाते हैं. उन्होंने कहा, 'मैं इसे एक डील की तरह करता हूं. मुझे फ्री की ट्रिप मिल जाती है और जरूरतमंद लोगों को उनका बच्चा मिल जाता है. इसमें दोनों खुश हो जाते हैं.' 
 

Photo: Freepik