scorecardresearch
 

Solar Eclipse 2021: 2 मिनट के लिए धरती के इस हिस्से में छा जाएगा अंधेरा, ना करें ये एक गलती

Solar Eclipse 2021: खगोलविदों के मुताबिक, अंटार्कटिका में सूर्य अक्टूबर के बाद से अस्त नहीं हुआ है. दरअसल पृथ्वी का सुदूर दक्षिणी महाद्वीप अभी भी गर्मियों के लंबे दिन का अनुभव कर रहा है जो कि अक्टूबर के मध्य से अप्रैल की शुरुआत तक रहता है.

Solar Eclipse 2021: 2 मिनट के लिए ग्रहण के साय में ढक जाएगा धरती का ये हिस्सा, ना करें ये एक गलती Solar Eclipse 2021: 2 मिनट के लिए ग्रहण के साय में ढक जाएगा धरती का ये हिस्सा, ना करें ये एक गलती
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 2 मिनट के लिए ग्रहण की छाया से ढक जाएंगे अंटार्कटिका के कई हिस्से
  • अक्टूबर से अप्रैल तक अंटार्कटिका में होते हैं लंबे दिन

साल 2021 का आखिरी सूर्य ग्रहण 4 दिसंबर यानी आज है. ये ग्रहण अंटार्कटिका के अलावा दक्षिण अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका और दक्षिणी अटलांटिक जैसे इलाकों से दिखाई देगा. खगोलविदों के मुताबिक, अंटार्कटिका में सूर्य अक्टूबर के बाद से अस्त नहीं हुआ है. दरअसल पृथ्वी का सुदूर दक्षिणी महाद्वीप अभी भी गर्मियों के लंबे दिन का अनुभव कर रहा है जो कि अक्टूबर के मध्य से अप्रैल की शुरुआत तक रहता है.

लेकिन शनिवार को पश्चिमी अंटार्कटिका की बर्फ पर करीब दो मिनट के लिए अंधेरा छा जाएगा. इस दौरान, चंद्रमा ठीक सूर्य के सामने से गुजरेगा और उसकी किरणों को अंटार्कटिका पर पड़ने से रोकेगा. यह घटना सूर्य ग्रहण का निर्माण करेगी. ग्रहण की छाया अर्जेंटीना, ब्रिटिश और चिलियन अंटार्कटिक क्षेत्रों के साथ-साथ इसके गैर-स्वामित्व वाले हिस्से 'मैरी बाइर्ड लैंड' को भी पार करेगी. इस मार्ग में पड़ने वाले क्षेत्र लगभग दो मिनट के लिए ग्रहण की छाया से ढक जाएंगे. वरना इन क्षेत्रों में महीनों तक लंबे दिन रहते हैं.

इस दौरान दक्षिण अमेरिका, अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड में रहने वाले लोग थोड़ी देर के लिए आंशिक सूर्य ग्रहण देख सकेंगे. दक्षिण अमेरिका और अफ्रीका में सुबह के वक्त ग्रहण होगा, जबकि ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में यह खगोलीय घटना सूर्यास्त के समय दिखाई देगी.

न्यूजीलैंड में भी स्थिति लगभग ऐसी ही होगी. इंवरकारगिल में सूर्य का लगभग 4 फीसद हिस्सा चंद्रमा से ढका दिखाई देगा. यहां चंद्रमा सूर्य के बाईं ओर से गुजरेगा. लेकिन आगे उत्तर की ओर क्वींसटाउन की तरफ बढ़ें तो सूर्यास्त के दौरान सूर्य ग्रहण थोड़ा मुश्किल से दिखाई पड़ता है. असल में अगर आपको इसकी जानकारी ना हो तो सूर्य ग्रहण का पता ही नहीं चल पाएगा. जब तक सूर्य का करीब 80 फीसद या इससे ज्यादा हिस्सा ढका ना हो, तब तक इसे पहचानना जरा मुश्किल होता है.

सूर्य ग्रहण के वक्त ना करें ये भूल
सूर्य ग्रहण एक खगोलीय घटना है जिसे बहुत गौर से देखने की जरूरत होती है. सबसे महत्वपूर्ण, सूर्य को कभी सीधे देखने की गलती ना करें. इसे देखने के लिए खास किस्म के सनग्लास पहनें. इस ग्लास के जरिए आप इसके एक्टिव सनस्पॉट देख सकते हैं. वर्तमान समय में सूर्य एक शांत चरण से सक्रिय अवस्था में जा रहा है. यह एक ऐसा चक्र है जो हर 11 साल में रिपीट होता है. आप चाहें तो स्पेसवेदर जैसी वेबसाइट पर भी सूर्य के सरफेस की मौजूदा हलचल को देख सकते हैं.

आमतौर पर प्रोजेक्शन मेथड को सूर्य ग्रहण देखने का श्रेष्ठ तरीका माना जाता है. इसमें प्लास्टिक के कप में छेद या कार्डबोर्ड के टुकड़े का इस्तेमाल किया जाता है. कप के छेद से किसी कागज या दीवार के सरफेस पर पड़ने वाली सनलाइट भी सूर्य की इमेज बनाती है. हालांकि यह सूर्य ग्रहण बहुत छोटा है और ईस्टर्न ऑस्ट्रेलिया में यह सूर्यास्त के समय होगा, इसलिए प्रोजेक्शन मेथड से इसे देख पाना मुश्किल होगा.

ये भी पढ़ें:

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×