scorecardresearch
 

कहीं आप तो नहीं पी रहे इस तरह की लौकी का जूस? ICU जाने की आ जाएगी नौबत

हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार कड़वी लौकी शरीर में जहर बनाने का काम करती है. इसके सेवन से पेट में दर्द, मितली, उल्टी, डायरिया, खून की उल्टी, शौच में खून आना, सदमा लगना और यहां तक की मौत भी हो सकती है. इस तरह के लक्षण महसूस होने पर डॉक्टर से तुरंत संपर्क करना चाहिए वरना ये बहुत गंभीर हो सकता है.

सेहत के लिए बेहद खतरनाक है कड़वी लौकी सेहत के लिए बेहद खतरनाक है कड़वी लौकी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • लौकी के जूस के नुकसान भी
  • कड़वी लौकी शरीर में बनाती है जहर
  • लक्षणों पर दें ध्यान

लौकी को पोषक तत्वों का एक पावरहाउस माना जाता है. इसे घिया या दूधी के नाम से भी जाना जाता है. डायबिटीज, हाइपरटेंशन और लिवर जैसी बीमारियों को कंट्रोल करने में लौकी बहुत कारगर मानी जाती है. खासतौर से कोलेस्ट्रॉल और वजन कम करने में लौकी का जूस बहुत फायदेमंद होता है. लेकिन अगर आपने गलत तरीके की लौकी या जूस का इस्तेमाल कर लिया तो आपको अस्पताल भी जाना पड़ सकता है. ऐसा ही कुछ हुआ है राइटर और फिल्म मेकर ताहिरा कश्यप के साथ. 

अपने इंस्टाग्राम रील में ताहिरा ने बताया है कि किस तरह कड़वी लौकी का जूस पीने से उन्हें दो दिनों तक ICU में रहना पड़ा था. दरअसल ताहिरा ने लौकी, आंवला और हल्दी को एक साथ मिलाकर पिया था. ये स्वाद में बहुत कड़वा था और इसकी वजह से उनके शरीर में जहर बनने लगा था. इसकी वजह से ताहिरा को कम से कम 17 बाल उल्टियां हुईं और उनका ब्लड प्रेशर भी अचानक बहुत कम हो गया था. ताहिरा का कहना है कि उन्होंने विटामिन C की अधिक मात्रा के लिए इस मिश्रण जूस को पिया था. वीडियो में ताहिरा लोगों को ऐसी गलती करने से बचने के सलाह देते हुए लोगों को इस जूस के प्रति लोगों को जागरुक कर रही हैं.

 

लौकी विषाक्ता के लक्षण (Symptoms of Bottle Gourd toxicity)- हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार कड़वी लौकी शरीर में जहर बनाने का काम करती है. इसके सेवन से पेट में दर्द, मितली, उल्टी, डायरिया, खून की उल्टी, शौच में खून आना, सदमा लगना और यहां तक की मौत भी हो सकती है. इस तरह के लक्षण महसूस होने पर डॉक्टर से तुरंत संपर्क करना चाहिए वरना ये बहुत गंभीर हो सकता है.

ऐसे करें पहचान- डॉक्टर्स का कहना है कि पिछले कुछ सालों में लौकी के जूस की वजह से शरीर विषाक्त (Toxicity) होने के कई मामले सामने आए हैं. इसकी वजह से लोगों को गंभीर तरीके से उल्टियां और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ब्लीडिंग की शिकायत हो रही है. हालांकि इस तरह के मामले फिर भी कम है लेकिन एक्सपर्ट्स लौकी खाने से पहले कई तरह की सावधानियां रखने के सलाह दे रहे हैं. लौकी में टेट्रासाइक्लिक ट्राइटरपेनॉयड जैसे कंपाउंड होते हैं जिन्हें  कुकर बिटासिन (Cucurbitacins)कहा जाता है. ये प्राकृतिक रूप से विषाक्त पदार्थ होते हैं. इसलिए लौकी को पकाने, खाने या जूस बनाने से पहले इसे चखने की सलाह दी जाती है. अगर लौकी बहुत ज्यादा कड़वी है तो इसका इस्तेमाल बिल्कुल ना करें.

 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें