scorecardresearch
 

आप भी नहीं पीते रोज 8 गिलास पानी? बढ़ सकता है इस बीमारी का खतरा

शरीर के बेहतर फंक्शनिंग के लिए हाइड्रेटेड रहना काफी ज्यादा जरूरी होता है. पानी पीने से शरीर को कई तरह के फायदे मिलते हैं. इससे शरीर के विषाक्त पदार्थ मूत्र के जरिए आसानी से बाहर निकल जाते हैं. ऐसे में जो लोग पानी का सेवन कम करते हैं उन्हें कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं.

X
photo credit: getty images photo credit: getty images
स्टोरी हाइलाइट्स
  • धमनियों की फंक्शनिंग के लिए शरीर का हाइड्रेटेड रहना काफी ज्यादा जरूरी होता है
  • व्यक्ति को प्रतिदिन 6 से 8 गिलास पानी जरूर पीना चाहिए

पानी पीना सेहत के लिए काफी फायदेमंद साबित होता है, पानी हमारे शरीर को हाइड्रेट करने का काम करता है. गर्मियों में खासतौर पर शरीर को पानी की जरूरत काफी ज्यादा होती है. लेकिन कुछ लोग पानी काफी कम पीते हैं या ये कहें कि उन्हें पानी पीना याद ही नहीं रहता. अगर आप भी ऐसा ही कुछ करते हैं तो बता दें कि पानी ना पीने से आपके शरीर पर काफी बुरा असर पड़ता है और आपको काफी खतरनाक बीमारी हो सकती है. 

वैज्ञानिकों का कहना है कि व्यक्ति को प्रतिदिन 6 से 8 गिलास पानी जरूर पीना चाहिए. ऐसा करने से हार्ट फेलियर जैसी खतरनाक बीमारी से बचा जा सकता है. हार्ट फेलियर तब होता है जब दिल सही तरीके से शरीर के बाकी अंगों तक ब्लड को नहीं पहुंचा पाता. आमतौर पर ऐसा दिल के कमजोर होने की वजह से होता है. यह काफी लंबे समय तक चलने वाली समस्या है जो समय के साथ और भी खतरनाक साबित हो सकती है.

यूएस नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ हेल्थ की रिसर्चर, डॉ नतालिया दिमित्रीवा ने बताया कि ये सभी चीजें करने से लंबे समय तक चलने वाली दिल की बिमारियों का खतरा कम किया जा सकता है इन्हीं सवालों का जवाब जानने के लिए डॉ नतालिया ने एक टीम का गठन किया. जिन्होंने 12 हजार अमेरिकी व्यस्कों पर स्टडी की. इस स्टडी में 45 से 66 वर्ष तक के लोगों को शामिल किया गया. स्टडी की शुरुआत में इन सभी लोगों को हार्ट, डायबिटीज और मोटापे से सम्बंधित कोई भी समस्या नहीं थी.

लगभग 1366 लोगों को बाद में हार्ट फेलियर की समस्या का सामना करना पड़ा जो उम्र बढ़ने के साथ होना आम है. टीम ने ब्लड में मौजूद सोडियम लेवल को आंका  जो किसी व्यक्ति के शरीर में फ्लूइड लेवल कम होने के कारण बढ़ सकता है.

बता दें कि एक नॉर्मल सीरम सोडियम रेंज 135 और 146 मिलीइक्विवेलेंट प्रति लीटर (mEq/L) के बीच होती है. लेकिन जिन लोगों का सोडियम लेवल अपनी मिड लाइफ में लगभग 143 mEq/L के बीच होता है उनमें हार्ट फेलियर का खतरा 39 फीसदी ज्यादा पाया जाता है. डाटा में यह भी दर्शाया गया है कि जिन लोगों की उम्र 70 साल से ज्यादा है और उनका सोडियम रेंज 143 mEq/L है, उनमें हार्ट की लाइनिंग मोटी होने की समस्या पाई जाती है. इन लोगों में यह खतरा 62 फीसदी ज्यादा होता है.
 
फ्लूड चाहे चाय, पानी या कोई भी ड्रिंक हो बॉडी के लिए काफी फायदेमंद साबित होते हैं. पर्याप्त मात्रा में फ्लूड लेने से हार्ट, ब्लड को शरीर के सभी अंगों तक अच्छी तरह से पहुंचाने का काम करता है. 

प्रारंभिक निष्कर्ष से पता चलता है कि अच्छे हाइड्रेशन से शरीर में होने वाले उन बदलावों को रोका जा सकता है, जिससे हार्ट फेल होने की संभावना बढ़ जाती है. धमनियों की फंक्शनिंग के लिए शरीर का हाइड्रेटेड रहना काफी ज्यादा जरूरी होता है. शोधकर्ताओं का कहना है कि महिलाओं को प्रतिदिन 6 से 8 (1.5-2.1 लीटर)कप और पुरुषों को प्रतिदिन 8 से 12 (2-3 लीटर) कप पानी का सेवन करना चाहिए. इसके अलावा, हार्ट की देखभाल के लिए विशेषज्ञ नियमित व्यायाम, धूम्रपान न करने, शराब और कैफीन का सामान्य रूप से सेवन करने और हेल्दी डाइट लेने की सलाह देते हैं.

 


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें