scorecardresearch
 

Covid-19: कोरोना से रिकवर होते ही तुरंत बदल डालें ये एक चीज, वरना दोबारा हो सकते हैं संक्रमित

अंजना सत्यजीत कहती हैं, हर तीन महीने में अपना टूथब्रश बदलना एक अच्छी आदत है. लेकिन कोविड के बाद, इसमें बिल्कुल भी देरी न करें और इसे तुरंत बदल दें. वह आगे कहती हैं कि वायरस प्लास्टिक की सतहों पर लंबे समय तक जीवित रह सकता है, इसलिए सुरक्षित रहने के लिए आपको टूथब्रश को बदल देना चाहिए.

X
कोरोना से रिकवर होते ही तुरंत चेंज करें ये एक चीज, वरना दोबारा हो सकते हैं संक्रमित (Photo Credit: Getty Images) कोरोना से रिकवर होते ही तुरंत चेंज करें ये एक चीज, वरना दोबारा हो सकते हैं संक्रमित (Photo Credit: Getty Images)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • ओरल हेल्थ का ध्यान रखना काफी जरूरी होता है.
  • अपने हाथों को नियमित रूप से धोना और साफ करना जरूरी है.

दुनियाभर में कोरोना की तीसरी लहर ओमिक्रॉन ने कोहराम मचा रखा है. तीसरी लहर जानलेवा तो साबित नहीं हो रही लेकिन यह काफी संक्रामक है. ऐसे में जरूरी है कि लापरवाही ना बरती जाए. तीसरी लहर पूरी तरह से वैक्सीनेटेड लोगों को भी अपनी चपेट में ले रही है. कोरोना संक्रमण में ओरल हेल्थ का ध्यान रखना काफी जरूरी होता है. ऐसे में अगर आप कोरोना से संक्रमित हैं या इससे रिकवर हो रहे हैं तो अपना टूथब्रश जरूर बदलें. क्या आप जानते है कि कोरोना से रिकवर होने के बाद अगर आप अपना टूथब्रश नहीं बदलते हैं तो यह काफी हानिकारक साबित हो सकता है? यह उन लोगों को भी जोखिम में डाल सकता है जो आपके साथ एक ही बाथरूम शेयर करते हैं. आइए जानते हैं क्या कहना है आर्टेमिस हॉस्पिटल, गुरुग्राम की डेंटिस्ट डॉ. अंजना सत्यजीत का.

कोविड-19 से रिकवर होने के बाद क्यों जरूरी है टूथब्रश बदलना?

अंजना सत्यजीत कहती हैं, हर तीन महीने में अपना टूथब्रश बदलना एक अच्छी आदत है. लेकिन कोविड के बाद, इसमें बिल्कुल भी देरी न करें और इसे तुरंत बदल दें. वह आगे कहती हैं कि वायरस प्लास्टिक की सतहों पर लंबे समय तक जीवित रह सकता है, इसलिए सुरक्षित रहने के लिए आपको टूथब्रश को बदल देना चाहिए. यह न केवल आपको पुन: संक्रमित होने से बचाएगा, बल्कि परिवार के अन्य सदस्यों की भी रक्षा करेगा जो आपके साथ बाथरूम शेयर करते हैं. इसके अलावा, संक्रमण को रोकने के लिए नए टंग क्लीनर का इस्तेमाल करें. हम जानते हैं कि कोविड 19 हमारे इम्यून सिस्टम को खराब करता है, लेकिन साथ ही यह आपकी ओरल हेल्थ पर भी प्रभाव डालता है. इससे ड्राई माउथ और मसूड़ों में छालों की समस्या का सामना करना पड़ सकता है.


क्या है इसके पीछे का साइंस

ओरल हाइजीन बनाए रखना महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह वायरस के प्रसार को बढ़ा सकता है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, वायरस मुख्य रूप से संक्रमित व्यक्ति के मुंह से निकलने वाली छोटी-छोटी बूंदों के माध्यम से फैलता है, खासकर जब वे खांसते, छींकते, बात करते या हंसते हैं.

इसके अलावा, वायरस से इंफेक्टेड सतहों को छूने से भी संक्रमित होना संभव है. यही कारण है कि न केवल अपने हाथों को नियमित रूप से धोना और साफ करना जरूरी है, बल्कि आपको समय-समय पर सतहों को भी डिसइंफेक्ट करना चाहिए.

कोविड के दौरान और बाद में कैसे रखें ओरल हाइजीन का ख्याल

- दांतों को ब्रश करने से पहले और फ्लॉसिंग के दौरान हाथों को अच्छे से धोएं.

- दिन में दो बार ब्रश करें, फ्लॉस करें और अपनी जीभ को साफ करें.

- नियमित रूप से माउथवॉश का प्रयोग करें.

- अगर आपके अलावा बाथरूम को कोई और भी इस्तेमाल कर रहा है तो वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सिंक को डिसइंफेक्ट जरूर करें. 
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें