scorecardresearch
 

ग्रीन टी मुंह के कैंसर के इलाज में भी कारगर

ग्रीन टी मुंह के कैंसर से लड़ने में कारगर हो सकती है. हाल ही में एक स्टडी में यह बात सामने आई है कि ग्रीन टी में पाए जाने वाला एक यौगिक मुंह के कैंसर की कोशिकाओं को नष्ट कर सकता है, जबकि यह सामान्य कोशिकाओं को क्षति नहीं पहुंचाता है.

ग्रीन टी मुंह के कैंसर से लड़ने में कारगर हो सकती है. हाल ही में एक स्टडी में यह बात सामने आई है कि ग्रीन टी में पाए जाने वाला एक यौगिक मुंह के कैंसर की कोशिकाओं को नष्ट कर सकता है, जबकि यह सामान्य कोशिकाओं को क्षति नहीं पहुंचाता है.

पेंसिलवेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी के खाद्य वैज्ञानिकों के अनुसार, शोध के नतीजे मुंह के कैंसर और अन्य तरह के कैंसर के इलाज में मदद कर सकते हैं. शुरुआती अध्ययन में पाया गया कि ग्रीन टी में पाए जाने वाला एपिगैलोकेटेचिन-3-गैलेट (EGCG) यौगिक सामान्य कोशिकाओं को क्षति पहुंचाएं बिना मुंह के कैंसर में कैंसर कोशिकाओं को नष्ट कर देता है.

यूनिवर्सिटी के सेंटर फॉर प्लांट एंड मशरूम फुड्स फॉर हेल्थ के सह-निदेशक और खाद्य विज्ञान विषय के सहायक प्रोफेसर जोशुआ लैंबर्ट ने कहा, 'लेकिन शोधकर्ता कैंसर कोशिकाओं को खत्म करने की इसकी क्षमता की वजहों का पता नहीं लगा पाए.'

हालिया शोध से यह नतीजे सामने आए हैं कि EGCG माइटोकॉन्ड्रिया (कोशिका पावरहाउस) में एक विनाशकारी विकास को शुरू करता है, जिससे कोशिकाओं की मौत हो जाती है. इससे ऐसा लगता है कि EGCG कैंसर कोशिका में रिएक्टिव ऑक्सीजन स्पीशीज का निर्माण करती है, जो माइटोकोन्ड्रिया को नष्ट कर देता है. उन्होंने कहा कि EGCG से सामान्य कोशिकाओं पर ऐसा प्रभाव नहीं पड़ता. यह शोध पत्र 'मॉलेक्यूलर न्यूट्रिशन एंड फूड रिसर्च' पत्रिका में प्रकाशित हुई है.

---इनपुट IANS से

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×