scorecardresearch
 

3 साल में बर्फीले तूफान में शहीद हुए 74 जवान, देखें गाउंड रिपोर्ट

जम्मू-कश्मीर में एलओसी पर तैनात भारतीय सैनिकों की एक साथ दो मोर्चों पर चल रही लड़ाई चल रही है. एक लड़ाई पाकिस्तान के नापाक इरादों को नाकाम करने की है और दूसरी लड़ाई भारी बर्फबारी के बीच बर्फीले तूफानों के सामने डटे रहने की है. ये दूसरी लड़ाई जवानों के लिए जानलेवा साबित हो रही है. हर साल बर्फबारी के दौरान सियाचिन से लेकर जम्मू-कश्मीर तक ऊंचे पहाड़ी इलाकों में सेना की फॉरवर्ड पोस्ट्स पर तैनात सैनिक बर्फीले तूफानों की चपेट में आकर शहीद होते हैं. 2016 से 2019 के दौरान ऊंचे पहाड़ी सीमावर्ती इलाकों में बर्फीले तूफान और एवलांच की घटनाओं में 74 जवान शहीद हो चुके हैं. देखें ये रिपोर्ट.

Indian army troops are fighting two wars in Kashmir. The first enemy is Pakistan and the second is snow avalanches. Over 200 Indian army troops were rescued and taken to safe shelters as a series of snow slides hit the Line of Control in North Kashmir. During 2016 to 2019, around 74 soldiers were martyred due to avalanche. For more details watch this ground report.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें