scorecardresearch
 

योगी के मिशन यूपी के 5 बड़े 'विलेन', कैसे पार पाएंगे आदित्यनाथ?

भरपूर एक्शन और ताबड़तोड़ फैसलों के बीच जहां यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ सिस्टम को पटरी पर लाने की कोशिश कर रहे हैं वहीं कई ऐसे मामले सामने आ रहे हैं जो उनके मिशन यूपी में विलेन का रोल निभा रहे हैं. इसमें पार्टी से जुड़े कार्यकर्ता या नेता भी कई बार समस्याएं खड़ी करते नजर आ रहे हैं. ये हैं योगी के यूपी मिशन के पांच बड़े विलेन-

योगी आदित्यनाथ योगी आदित्यनाथ

13 दिन में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने ताबड़तोड़ फैसले लिए हैं. गुरुवार को विधानसभा में अपने पहले संबोधन में योगी ने साफ किया कि उनकी सरकार 22 करोड़ लोगों की सरकार है और विपक्ष से भी भेदभाव नहीं किया जाएगा. भरपूर एक्शन और ताबड़तोड़ फैसलों के बीच जहां यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ सिस्टम को पटरी पर लाने की कोशिश कर रहे हैं वहीं कई ऐसे मामले सामने आ रहे हैं जो उनके मिशन यूपी में विलेन का रोल निभा रहे हैं. इसमें पार्टी से जुड़े कार्यकर्ता या नेता भी कई बार समस्याएं खड़ी करते नजर आ रहे हैं. ये हैं योगी के यूपी मिशन के पांच बड़े विलेन-

1. बूचड़खानों पर कार्रवाई में अतिउत्साह
योगी सरकार के सत्ता में आते ही अवैध बूचड़खानों पर सख्ती शुरू हो गई. जगह-जगह बूचड़खानों पर कार्रवाई हुई और छापे मारे गए. इसके विरोध में लखनऊ समेत तमाम शहरों में मीट कारोबारी हड़ताल पर चले गए. आखिरकार गुरुवार को सीएम योगी के साथ मीटिंग के बाद मीट कारोबारियों ने हड़ताल खत्म करने की घोषणा की. सीएम ने कारोबारियों को आश्वासन दिया कि केवल अवैध बूचड़खानों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. योगी ने भरोसा दिलाया कि उनकी सरकार सबके लिए काम करेगी और धर्म-जाति के आधार पर भेदभाव नहीं किया जाएगा.

2. सड़क पर एंटी रोमिये दस्ते का आतंक
उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ ने कमान संभालते ही एंटी रोमियो स्कवॉड बनाने के आदेश जारी किए. अगले दिन हर जिले में एंटी रोमिये दस्ते बन गए. सड़कों पर मनचलों के खिलाफ कार्रवाई शुरू हो गई. पार्कों में बैठे प्रेमी जोड़े पकड़े जाने लगे. महिला सुरक्षा के नाम पर यहां तक तो ठीक था लेकिन प्रशासन के अतिउत्साह ने लोगों में खौफ पैदा कर दिया. कई जगह साथ जा रहे भाई-बहनों तक को गिरफ्तार कर लिया गया. भय के माहौल के बीच सीएम योगी को कहना पड़ा की सहमति से साथ जा रहे प्रेमी जोड़ों के परेशान न किया जाए. बल्कि केवल मनचलों पर कार्रवाई किया जाए.

3. मेरठ के बवाली मेयर
गुरुवार को मेरठ नगर निगम में वंदे मातरम का बहिष्कार करने पर मुस्लिम पार्षदों को सदन से बाहर कर दिया गया. मेयर ने साफ ऐलान किया कि जो वंदेमातरम नहीं कहना चाहते वे बैठक से बाहर चले जाएं. इस मामले को लेकर तनाव बढ़ा. एक तरफ जहां सीएम योगी ने कहा कि नमाज और सूर्य नमस्कार में कोई अंतर नहीं है वहीं समर्थक नेता जहां-तहां अगर ऐसे बवाल करेंगे तो योगी सबका साथ सबका विकास की नीति पर कैसे चल पाएंगे.

4. थाने में हुड़दंग मचाते विधायक पुत्र
थानों को सपा के प्रभाव से मुक्त कराने के वादे के साथ प्रशासन को दुरुस्त करने उतरे सीएम योगी के मिशन को तब धक्का लगा जब इटावा में बीजेपी विधायक के पुत्र थाने में जायजा लेने पहुंच गए. पूछने पर उन्होंने कहा कि योगी और मोदी के कहने पर आया हूं. अगले दिन लखनऊ में विधायकों की बैठक में सीएम योगी को कहना पड़ा कि थाने में दबंगई नहीं चलेगी.

5. अति उत्साही कार्यकर्ता
इस बीच, सुल्तानपुर से 20 किलोमीटर दूर कूड़ेभार बाज़ार में इस्लामिक झंडे हटाने का मामला सामने आया. एक वीडियो वायरल हुआ है जिसमें सड़क पर लगे साइन बोर्ड पर चढ़कर लोग इस्लामिक झंडे उतार रहे हैं. इस्लामिक झंडा उतारने वाले 'जय श्री राम' का नारा लगाते हुए कैमरे में कैद हुए हैं.

इसमें संदेह नहीं कि योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश में हिंदुत्व का चेहरा रहे हैं , जिसके लिए उनके विरोधी आज भी उनके आक्रामक बयानों वाले अतीत की याद दिलाते हैं. क्या जब आज वे पूरी 22 करोड़ जनता की बात कर रहे हैं, तो भी उन्हें उसी रूप में देखना सही होगा? आज जब वे दावा कर रहे हैं कि उनके सारे फैसले किसी व्यक्ति विशेष या समुदाय के लिए नहीं है तो उन्हें आगे बढ़ने से कौन रोक रहा है? क्या ऐसे फैसले जो यूपी की जनता के विकास में कारगर साबित हो सकते हैं, उन्हें सही से अमल नहीं होने देना सही है?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें