scorecardresearch
 

योगी आदित्यनाथ सरकार ने अब बदला घाघरा नदी का नाम, दी ये नई पहचान

सरयू नदी यूपी के कई जिलों में अलग-अलग नाम से जानी जाती है. नेपाल से बहराइच होते हुए गोंडा तक यह घाघरा नदी कहलाती है जबकि गोंडा के आगे यह सरयू नदी कहलाती है. सरकार ने अब पूरी नदी का नाम सरयू कर दिया है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (फाइल-FB) मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (फाइल-FB)

  • अलग-अलग जिलों में अलग नाम है घाघरा का
  • अब पूरी नदी का नाम कर दिया गया सरयू नदी

उत्तर प्रदेश कैबिनेट ने सोमवार को प्रदेश में पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू करने के साथ ही कई अहम प्रस्तावों को मंजूरी दी है. योगी आदित्यनाथ सरकार की कैबिनेट ने प्रदेश की अहम नदी घाघरा नदी का नाम बदलकर सरयू कर दिया है.

सरयू नदी कई जिलों में अलग-अलग नाम से जानी जाती है. नेपाल से बहराइच होते हुए गोंडा तक यह घाघरा नदी कहलाती है जबकि गोंडा के आगे यह सरयू नदी कहलाती है. सरकार ने अब पूरी नदी को सरयू नदी नाम दे दिया है.

यह नदी दक्षिणी तिब्बत के ऊंचे पर्वत शिखर में मापचाचुंगो हिमनद से निकलती है और उत्तर प्रदेश में बहराइच, सीतापुर, गोंडा, बाराबंकी, अयोध्या, अंबेडकरनगर, मऊ, बस्ती, गोरखपुर, लखीमपुर खीरी और बलिया से होकर गुजरती है.

यह गंगा की सबसे बड़ी सहायक नदी है. निचली घाघरा नदी को सरयू के नाम से भी जाना जाता है. अयोध्या इसके दाएं किनारे पर स्थित है.

कैबिनेट ने इसका नाम बदलकर सरयू करने के प्रस्ताव पर सहमति दे दी है. अब राजस्व अभिलेखों में इसका नाम सरयू दर्ज किया जाएगा.

घाघरा के नाम परिवर्तन संबंधी प्रस्ताव को केंद्र सरकार के पास भेजने के लिए भी योगी कैबिनेट ने अपनी मंजूरी दे दी है. केंद्र की मंजूरी मिलने के बाद ही घाघरा, सरयू नदी कहलाएगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें