scorecardresearch
 

UP के राज्यपाल को नहीं मिली पोस्टल बैलेट की सुविधा, वोट डालने जाना होगा मुंबई

राज्यपाल व उनके परिसहाय (एडीसी) के हवाई जहाज से आने-जाने पर 53 हजार रुपये खर्च होंगे तथा जेड प्लस सुरक्षा का खर्च अलग से आएगा. राज्यपाल राम नाईक ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त ओम प्रकाश रावत को पत्र लिखकर भविष्य में होने वाले चुनाव के लिए सुझाव भी दिया है.

X
यूपी राज्यपाल राम नाईक (File) यूपी राज्यपाल राम नाईक (File)

देश में ईवीएम-वीवीपैट की बहस से इतर वोट डालने को लेकर एक नया मामला सामने आया है. महाराष्ट्र विधान परिषद के मुंबई स्नातक क्षेत्र के चुनाव में पोस्टल बैलेट सुविधा निर्वाचन आयोग से न मिलने के कारण उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक को 25 जून को मुंबई जाकर ही मतदान करना होगा.

राज्यपाल व उनके परिसहाय (एडीसी) के हवाई जहाज से आने-जाने पर 53 हजार रुपये खर्च होंगे तथा जेड प्लस सुरक्षा का खर्च अलग से आएगा. राज्यपाल राम नाईक ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त ओम प्रकाश रावत को पत्र लिखकर भविष्य में होने वाले चुनाव के लिए सुझाव भी दिया है.

उन्होंने कहा है कि लोकसभा, विधानसभा निर्वाचन में मतदान करने के लिए जैसे विदेश में रहने वाले भारतीय नागरिक या अन्य प्रदेशों में व्यवसाय करने वाले व्यवसायी, चुनाव ड्यूटी करने वाले कर्मचारी, मतदान स्थल से दूर रहने वालों को पोस्टल बैलेट की व्यवस्था है, वही व्यवस्था विधान परिषद के स्नातक क्षेत्र के चुनाव के लिए भी होनी चाहिए.

अपनी अपील में राम नाईक ने कहा है कि मौजूदा प्राविधानों में बदलाव करते हुए विधान परिषद के स्नातक क्षेत्र चुनाव में भी पोस्टल बैलेट की सुविधा मिलेगी तो दूर दराज के मतदाता को मतदान करने में सहूलियत होगी.

राज्यपाल ने अपने पत्र में कहा है कि वह स्वयं निर्वाचन आयोग के अधिकारियों से भेंट करके इस मुद्दे पर चर्चा भी करना चाहेंगे. गौरतलब है कि राम नाईक मूलरुप से महाराष्ट्र से ही आते हैं. 2014 में मोदी सरकार ने आते ही 5 राज्यों के राज्यपाल बदले थे, तभी राम नाईक को यूपी की जिम्मेदारी सौंपी गई थी. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें