scorecardresearch
 

UP: त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के दूसरे चरण के लिए कांग्रेस ने जारी की उम्मीदवारों की लिस्ट

उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने प्रदेश में हो रहे त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों में द्वितीय चरण के तहत कई जिलों के जिला पंचायत सदस्यों के उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है.

उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू. (फाइल फोटो) उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू. (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • दूसरे चरण के लिए कांग्रेस ने जारी की लिस्ट
  • पहले चरण के उम्मीदवारों की लिस्ट हो चुकी है जारी
  • उत्तर प्रदेश में हो रहे हैं त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव

उत्तर प्रदेश में होने वाले त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के दूसरे चरण के लिए कांग्रेस ने आज बुधवार को अपने उम्मीदवारों की लिस्ट जारी कर दी है. उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने यूपी में हो रहे त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों में द्वितीय चरण के अमरोहा, आजमगढ़, बदायूं, बागपत, बिजनौर, चित्रकूट, एटा, इटावा, गौतमबुद्धनगर, कन्नौज, लखीमपुर, ललितपुर, लखनऊ, महाराजगंज, मैनपुरी, मुजफ्फरनगर, प्रतापगढ़, सुल्तानपुर एवं वाराणसी जिलों के कांग्रेस समर्थित जिला पंचायत सदस्यों के उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है.

बता दें कि इससे पहले बीजेपी के उम्मीदवारों के ऐलान के बाद प्रथम चरण के पंचायत चुनाव को लेकर कांग्रेस ने अपने प्रत्याशियों की सूची जारी की थी. कांग्रेस ने प्रथम चरण के आगरा, अयोध्या, बरेली, भदोही, गाजियाबाद, गोरखपुर, हरदोई, हाथरस, जौनपुर, झांसी, कानपुर, महोबा, प्रयागराज, रामपुर, सहारनपुर, संतकबीर नगर एवं श्रावस्ती जिलों के कांग्रेस समर्थित जिला पंचायत सदस्यों के उम्मीदवारों की घोषणा की थी.

बीजेपी पर लल्लू का निशाना

इससे पहले सूबे के वाराणसी जिले में पहुंचे यूपी कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने बीजेपी पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण के बीच अस्पताल में बदइंतजामी है लेकिन बीजेपी सरकार को लोगों की जान से कोई मतलब नहीं है. ये सरकार बैनर पोस्टर वाली और इवेंट  मैनेजमेंट वाली सरकार है.

पंचायत चुनाव टालने की याचिका खारिज

उधर, इलाहाबाद हाई कोर्ट ने कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकोप के बीच यूपी में होने वाले पंचायत चुनाव टालने की मांग करते हुए दायर की गई जनहित याचिका को खारिज कर दिया है. कोर्ट ने कहा कि कोरोना को लेकर लगातार एहतियात बरतने के निर्देश जारी किए गए हैं. चुनाव के मद्देनजर चुनाव आचार संहिता भी लागू है. कोर्ट भी एहतियात को लेकर निर्देश जारी कर चुका है. ऐसे मे चुनाव स्थगित करने की मांग मे दाखिल जनहित याचिका पर हस्तक्षेप करने का कोई आधार नहीं है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें