scorecardresearch
 

राम मंदिर: रविशंकर को मनीष तिवारी ने कहा स्वयंभू, बोले-कोई श्री है तो कोई डबल श्री

सोमवार को ही श्री श्री ने कहा था कि राम मंदिर विवाद को सुलझाने के लिए उन्हें किसी ने नियुक्त नहीं किया है बल्कि वह खुद ही इस दिशा में काम कर रहे हैं. आध्यात्मिक गुरू श्रीश्री रविशंकर अयोध्या जाने से पहले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिल सकते हैं.

मनीष तिवारी ने कोशिशों पर उठाए सवाल मनीष तिवारी ने कोशिशों पर उठाए सवाल

अयोध्या विवाद सुलझाने को लेकर आमने-सामने से लेकर पर्दे के पीछे भी बैठकों का दौर जारी है. आध्याध्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर अपनी ओर से इस विवाद को सुलझाने के लिए प्रयासरत हैं और बीते कई दिनों से मुस्लिम धर्मगुरुओं से मुलाकात भी कर रहे हैं. कांग्रेस पार्टी ने श्री श्री के प्रयासों को लेकर केंद्र सरकार पर तंज कसा है.

कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने कहा है कि सरकार ने अभी तो किसी को विवाद को सुलझाने के लिए अधिकृत नहीं किया है. अब कोई स्वयंभू व्यक्ति अपनी तरफ से कार्रवाई करता है, तो उस पर क्या टिप्पणी की जाए. सोमवार को ही श्री श्री ने कहा था कि राम मंदिर विवाद को सुलझाने के लिए उन्हें किसी ने नियुक्त नहीं किया है बल्कि वह खुद ही इस दिशा में काम कर रहे हैं.

आध्यात्मिक गुरू श्रीश्री रविशंकर अयोध्या जाने से पहले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिल सकते हैं. साथ ही वह गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मिलकर अब तक की बातचीत और बैठकों की जानकारी भी देंगे. वह 16 नवंबर को अयोध्या भी जा रहे हैं, जहां अलग-अलग अखाड़ों और संतों से मुलाकात करेंगे. इसके अलावा वह अन्य पक्षकारों से भी मुलाकात कर सकते हैं.

योगी आदित्यनाथ से मुलाकात के पहले श्रीश्री रविशंकर, शिवसेना के सांसद संजय राउत से मुलाकात कर चुके हैं. इसके अलावा श्रीश्री रविशंकर की मुलाकात ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के कमाल फारुखी से भी हो चुकी है. हिंदू महासभा के चक्रपाणि, गरीब नवाज फाउंडेशन के मोहम्मद अंसार रजा, निर्मोही अखाड़े के नरेंद्र गिरी और दूसरे हिंदू संगठन भी श्रीश्री रविशंकर से मिल चुके हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें