scorecardresearch
 

टॉर्चर, पिटाई, गाली-गलौज... श्रीकांत त्यागी की पत्नी ने पुलिस पर लगाए ये गंभीर आरोप

नोएडा पुलिस और एसटीएफ यूनिट ने कड़ी मशक्कत के बाद मेरठ से आरोपी श्रीकांत त्यागी को उसके तीन साथियों के साथ गिरफ्तार किया था और नोएडा लेकर आई थी.

X
श्रीकांत त्यागी की पत्नी ने लगाए गंभीर आरोप श्रीकांत त्यागी की पत्नी ने लगाए गंभीर आरोप

नोएडा के ग्रैंड ओमेक्स सोसायटी में बीते दिनों महिला से अभद्रता मामले में गिरफ्तार आरोपी श्रीकांत त्यागी की पत्नी ने पुलिस पर टार्चर करने का गंभीर आरोप लगाया है. श्रीकांत के परिजनों का भी कहना है कि उसकी तलाशी के समय हमें पुलिस टीम अपने साथ लेकर गई और बुरी तरह टॉर्चर किया गया. मंगलवार को मेरठ से श्रीकांत त्यागी की गिरफ्तारी हुई थी.

परिवार ने कहा कि उन्हें लगातार चार दिनों तक टॉर्चर किया गया, जब तक कि पुलिस ने श्रीकांत को गिरफ्तार नहीं कर लिया. श्रीकांत की पत्नी अनु त्यागी ने आज तक से बात करते हुए कहा कि मेरे पति के केस की सीबीआई जांच होनी चाहिए, क्योंकि हमारे साथ जो पुलिसवालों ने अभद्रता और दुर्व्यवहारपूर्ण रवैया अपनाया है उससे एक बार को तो हमें ऐसा लग रहा था कि हम आत्महत्या कर लें. 

श्रीकांत त्यागी की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मीडिया को घटनाक्रम की पूरी जानकारी दी थी. इसके बाद श्रीकांत त्यागी की मामी विमला त्यागी ने कहा कि उनके साथ पुलिसवालों ने तलाशी के दौरान ऐसा व्यवहार किया कि वो ये भूल गए कि मैं उनके परिवार से हूं. उन्हें इतना ज्यादा टॉर्चर किया, जिससे अभी भी उनका दिमाग बहुत ज्यादा डिस्टर्ब है. 

श्रीकांत की मामी ने बताया कि उनको पुलिस ने 6 तारीख को उठाया था और 9 तारीख की शाम को छोड़ा है. इस बीच पुलिस उन्हें मुजफ्फरनगर, ऋषिकेश, हरिद्वार, मेरठ के तमाम क्षेत्रों में ले गई और किसी से कोई बात नहीं करने दी गई.

उन्होंने आरोप लगाया कि मेरा मोबाइल भी जब्त कर लिया और हर वक्त मेरे ऊपर निगरानी रखी. ऐसा लग रहा था कि हम इस दुनिया के है ही नहीं और अजीब तरीके से व्यवहार किया जा रहा था.

विमला त्यागी ने कहा, पुलिस वाले भूल गए श्रीकांत मेरे ही परिवार का आदमी है. जब पुलिसवाले घर में घुसे और जिस तरीके से उठाकर ले गए ऐसा लग रहा था कि अपराध श्रीकांत ने नहीं बल्कि हमने किया है. पुलिस ने श्रीकांत की गिरफ्तारी को लेकर हमें बहुत ज्यादा टॉर्चर किया है.

इसी के साथ आरोपी अनु त्यागी ने कहा कि जिस दिन यह घटना घटी थी, उस दिन मीडिया के सामने वायरल वीडियो का एक पक्ष आया जबकि हमारे पक्ष का वीडियो देखेंगे तो आप दंग रह जाएंगे. 

वीडियो वायरल होने के बाद हमने अपने पक्ष का वीडियो सोशल मीडिया पर डालने की कोशिश की लेकिन उससे पहले ही पुलिस ने हमारे मोबाइल को कब्जे में ले लिया जो आज तक हमें नहीं मिला है. जैसे ही मोबाइल हमारे पास आएगा हम आपको जरूर उन वीडियो की सच्चाई दिखाएंगे.

अनु त्यागी ने कहा, मेरे पति ने उस समय महिला को गाली दे दी और उसे धक्का दिया दिया जो उनकी गलती है. इसकी सजा उन्हें कानून दे ही रहा है, लेकिन यह बहुत ज्यादा एकतरफा कार्रवाई है.

श्रीकांत त्यागी की पत्नी ने कहा, 'मैं आपको बता दूं वायरल वीडियो के बाद मेरा पति जब फरार हो गया था उसके बाद रात करीब 8:30 से 9:00 के बीच पुलिस आई जिसमें सभी पुरुष पुलिसकर्मी थे.'

उन्होंने कहा, 'मुझे सोसायटी में थोड़ी दूर तक तो बड़े ही प्यार से ले गए और मैं भी उन्हें सहयोग करती रही लेकिन जैसे ही थोड़ी दूर गए वैसे ही एक पुलिसवाला आया और मुझे गाली देते हुए कहा- बिठाओ इसको बताते हैं. मैं घबरा गई और मैंने कहा कि मैं अपनी गाड़ी से आ रही हूं उसके बावजूद भी जबरदस्ती चार पुरुष पुलिसकर्मी ने मुझे गाड़ी में बिठा लिया और थाने ले गए.'

अनु ने कहा, 'मुझसे दो रात और एक दिन लगातार थाना प्रभारी सुजीत उपाध्याय और अन्य पुलिसकर्मियों ने पूछताछ की. इस बीच कोई भी महिला पुलिसकर्मी मेरे पास नहीं आई और हमारे नौकर-ड्राइवर को पीटा जा रहा था. मुझे उनकी चींखें  सुनाई जा रही थी. साथ ही ये एहसास कराया जा रहा था कि अगर मैंने सच-सच नहीं बताया तो मेरा भी यही हाल करेंगे.'

अनु त्यागी ने कहा, 'बीच-बीच में पुलिसवाले आते और मुझे धमका कर गाली-गलौज करके चले जाते थे. मैं जितनी भी देर थाने में रही मुझे जनाना लॉकअप में न रखकर पुरूष वाले लॉकअप में रखा गया. ऐसा लग रहा था मानो यह गुनाह मेरे पति ने नहीं, बल्कि मैंने किया है.' 

उन्होंने कहा कि पुलिस ने जब गिरफ्तार किया था उस रात सोसाइटी के लोग और पुलिस वाले इस तरीके से दरवाजा खटखटा रहे थे, ऐसा लग रहा था मानो घर में आग लगा देंगे. कुछ देर के लिए तो हमें ऐसा लगा कि हम आत्महत्या कर लें. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें