scorecardresearch
 

यूपी के पूर्व सांसद शरद त्रिपाठी का निधन, गुरुग्राम के मेदांता में ली अंतिम सांस

यूपी के संतकबीरनगर लोकसभा सीट से पूर्व सांसद शरद त्रिपाठी का निधन हो गया है. वे गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में भर्ती थे. लिवर में दिक्कत के चलते इलाज के लिए उन्हें भर्ती कराया गया था.

X
पूर्व सांसद शरद त्रिपाठी का निधन
पूर्व सांसद शरद त्रिपाठी का निधन
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पूर्व सांसद शरद त्रिपाठी का निधन
  • मेदांता अस्पताल में ली अंतिम सांस
  • जूता कांड ने सुर्खियों में लाया था

यूपी के संतकबीरनगर लोकसभा सीट से पूर्व सांसद शरद त्रिपाठी का निधन हो गया है. वे गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में भर्ती थे. लिवर में दिक्कत के चलते इलाज के लिए उन्हें भर्ती कराया गया था. लेकिन बुधवार देर रात उन्होंने दम तोड़ दिया और इस दुनिया को अलविदा कह चले गए. उनके निधन की खबर से राजनीतिक गलियारों में शोक की लहर है. बीजेपी के कई बड़े नेता ट्वीट कर उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे हैं.

पूर्व सांसद शरद त्रिपाठी का निधन

केंद्रीय मंत्री स्मृती इरानी ने ट्वीट कर लिखा है कि मैं निशब्द हूं. ऐसा लगता अभी बोल उठेगा शरद ‘ चल दीदी क्षेत्र में कार्यक्रम करना है’ . चला गया , प्रभु की यही इच्छा थी . ईश्वर शरद त्रिपाठी जी की आत्मा को शांति दें, अपने श्री चरणों में स्थान दें. वहीं यूपी बीजेपी प्रमुख स्वतंत्र देव सिंह ने भी अपने साथी के जाने पर शोक व्यक्त किया है. वे लिखते हैं कि संतकबीरनगर से पूर्व सांसद व भाजपा के वरिष्ठ नेता श्री शरद त्रिपाठी जी के निधन के समाचार से स्तब्ध हूं. ईश्वर दिवंगत आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दे व परिजनों को यह दुःख सहने का संबल प्रदान करे.

क्लिक करें- मंदिरा बेदी के पति राज कौशल के निधन से सदमे में सेलेब्स, सोशल मीडिया पर जताया दुख 

जूता कांड ने सुर्खियों में लाया

बता दें कि जूता कांड के बाद से ही शरद त्रिपाठी सुर्खियों में आए थे. उस समय संतकबीर नगर से भाजपा सांसद रहे शरद त्रिपाठी की मेहदावल विधायक राकेश सिंह बघेल से जोरदार बहस हो गई थी. ये बहस उस समय हुई थी जब कलेक्ट्रेट में जिला योजना की एक महत्वपूर्ण बैठक चल रही थी. उस बैठक के बीच दोनों नेताओं की बहस इतनी ज्यादा आगे बढ़ गई कि जूता चल गया था. उस मामले में कई अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था. बाद में हाई कोर्ट की तरफ से दोनों नेताओं को राहत दे दी गई थी.

जानकारी के लिए बता दें कि शरद त्रिपाठी के पिता भी बीजेपी के वरिष्ठ नेता हैं. उनके पिता रमापति राम त्रिपाठी देवरिया से सांसद हैं. शरद ने भी राजनीति में एक लंबी पारी खेली है लेकिन उनकी बीमारी ने उन्हें ज्यादा जीने का मौका नहीं दिया. वे कुछ समय से बीमार चल रहे थे. जब तबीयत ज्यादा खराब हुई, तब उन्हें मेदांता अस्पताल में एडमिट करवाया गया. लेकिन बुधवार देर रात को उनका निधन हो गया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें