scorecardresearch
 

अयोध्या में कड़ाके की ठंड, VHP को सता रही है रामलला की चिंता

शरद शर्मा ने कहा कि संसार के दुख-सुख, खान-पान और रहन-सहन की चिन्ता करने वाले भगवान रामलला की इस ठंड मे चिंता करना हम सभी का कर्तव्य है. पुजारी जिस प्रकार रामलला की आरती पूजन की चिंता करते हैं, ठीक उसी तरह उन्हें रामलला को ठंड, गर्मी और वर्षा से बचाने का भी उपाय करते रहना चाहिए.

फोटो साभार: @uptourism/Twitter फोटो साभार: @uptourism/Twitter

विश्व हिन्दू परिषद ने अयोध्या में रामलला के लिये गर्म वस्त्र, रजाई और अंगीठी की व्यवस्था नहीं होने की खबरों पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए मंगलवार को कहा कि हम सबकी की चिंता करने वाले रामलला की भी इस ठंड में फिक्र करनी चाहिए.

विहिप के प्रान्तीय मीडिया प्रभारी शरद शर्मा ने यहां कहा कि ठंड में रामलला के गर्म वस्त्र, ओढ़ने के लिए रजाई और सेंकने के लिये हीटर या अंगीठी की व्यवस्था ना होने के समाचार प्रकाशित हुए हैं. पूजन और आंतरिक व्यवस्था में लगे पुजारी को श्रीराम जन्मभूमि पर विराजमान रामलला को ठंड से बचाने का उपाय करना चाहिए. अगर वे ऐसा नहीं कर सकते तो इसकी जिम्मेदारी हिन्दू संगठन और संत धर्माचार्यों को दे दी जाए.

शरद शर्मा ने कहा कि संसार के दुख-सुख, खान-पान और रहन-सहन की चिन्ता करने वाले भगवान रामलला की इस ठंड मे चिंता करना हम सभी का कर्तव्य है. पुजारी जिस प्रकार रामलला की आरती पूजन की चिंता करते हैं, ठीक उसी तरह उन्हें रामलला को ठंड, गर्मी और वर्षा से बचाने का भी उपाय करते रहना चाहिए.

शर्मा ने कहा रामलला की हर मौसम मे चिंता करने के लिये हिन्दू संगठन और संत धर्माचार्य तैयार हैं. जल्द ही इस गंभीर विषय पर रामजन्मभूमि के रिसीवर यानी मंडलायुक्त से संत धर्माचार्य और विहिप के पदाधिकारी मिलकर अपनी चिंता से अवगत करायेंगे. उन्होंने मांग की कि रामलला को ऊनी कपड़े, कम्बल और हीटर उपलब्ध कराया जाएं ताकि वह कड़ाके की सर्दी से बच सकें.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें