scorecardresearch
 

'निजी अस्पतालों का कोरोना ट्रीटमेंट चार्ज फिक्स करें' प्रियंका गांधी ने CM योगी को लिखा पत्र

प्रियंका वाड्रा ने अपने पत्र में यूपी के मुख्यमंत्री से पांच मसलों पर राहत देने की बात कही है. जिससे कोरोना की दूसरी लहर से जूझ रहे देशवासियों को कुछ सहूलियत मिल जाए.

प्रियंका गांधी (फाइल फोटो) प्रियंका गांधी (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • CM योगी को लिखे पत्र में पांच मांग
  • बिजली का बिल बढ़ाया न जाए
  • स्कूलों की फीस कम की जाए, स्कूलों को भी राहत दी जाए
  • अस्पतालों के कोरोना के इलाज की फीस फिक्स हो

कांग्रेस महासचिव और यूपी की इंचार्ज प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक पत्र लिखा है जिसमें उन्होंने नागरिकों को कोरोना से पड़ रहे आर्थिक दवाब से राहत देने की अपील की है. प्रियंका वाड्रा ने अपने पत्र में यूपी के मुख्यमंत्री से पांच मसलों पर राहत देने की बात कही है. जिससे कोरोना की दूसरी लहर से जूझ रहे देशवासियों को कुछ सहूलियत मिल जाए.

अपने दो पेज के पत्र में प्रियंका ने CM योगी से अपील की है कि कोविड अस्पताल को लेकर निजी अस्पतालों के चार्ज को फिक्स किया जाए. प्रियंका ने अपने पत्र में लिखा है कि ऐसा देखा गया है कि प्राइवेट अस्पताल मरीजों से इतना अधिक पैसे वसूल रहे हैं कि उन्हें लोन तक लेना पड़ रहा है. इसलिए सरकार को हस्तक्षेप करना चाहिए और अस्पताल के प्रतिनिधियों से बात करके अस्पतालों की फीस को फिक्स करना चाहिए ताकि इलाज कराने वाले लोगों को राहत मिल सके.

क्लिक करें: दिल्ली में नहीं है ऑक्सीजन की कोई कमी, केजरीवाल सरकार ने HC को दी जानकारी

इसी तरह खाने-पीने की चीजों की महंगाई की चर्चा करते हुए प्रियंका ने लिखा है कि खाद्य तेल, फलों, सब्जियों और अन्य आवश्यक वस्तुओं के सामानों की कीमतों में अत्यधिक वृद्धि हो रही है. सरकार को खाद्य वस्तुओं की कीमतों की बढ़ती कीमतों पर रोक लगाने के लिए तुरंत हस्तक्षेप करना चाहिए. बिजली के बिल भी स्मार्ट मीटरों के आ जाने के बाद से पहले से ही काफी अधिक आ रहे हैं, इसलिए महामारी के समय सरकार को बिजली के बिल नहीं बढ़ाने चाहिए.

कांग्रेस पार्टी की नेता ने स्कूलों की फीस पर लिखते हुए कहा है ''राज्य सरकार को पेरेंट्स को ऊंची फीस देने से राहत देने के लिए कदम उठाने चाहिए. और इसी तरह आर्थिक संकट से गुजर रहे स्कूलों के किए एक ब्लूप्रिंट तैयार करना चाहिए. पांचवी मांग प्रियंका गाँधी ने छोटे-उद्योगों और व्यापारियों के लिए की है. इसमें उन्होंने छोटे उद्योगों और व्यापारियों पर से टैक्स घटाने के लिए कहा है.

इसी तरह कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी प्रधानमन्त्री मोदी को एक पत्र लिखा है जिसमें उन्होंने मांग की है कि ऐसे बच्चों को मुफ्त में शिक्षा दी जाए जिन्होंने कोरोना के कारण अपने मां-बाप दोनों को खो दिया है या घर में एकमात्र कमाने वाले को खो दिया है. ऐसे सभी बच्चों की शिक्षा का भार सरकार उठाए. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें