scorecardresearch
 

यूपी में सियासी हलचल बढ़ी, ओवैसी के बाद शिवपाल यादव से मिले ओम प्रकाश राजभर

जानकारी के मुताबिक ओम प्रकाश राजभर भागीदारी संकल्प मोर्चा में शिवपाल को हिस्सा बनाने के लिए उनके पास मिलने पहुंचे थे. एक दिन पहले ओम प्रकाश राजभर और AIMIM के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी की भी मुलाकात हुई थी.

दोनों नेताओं के बीच करीब एक घंटे बातचीत चली दोनों नेताओं के बीच करीब एक घंटे बातचीत चली
स्टोरी हाइलाइट्स
  • भागीदारी संकल्प मोर्चा का हिस्सा बनाने की पहल
  • दोनों नेताओं के बीच करीब एक घंटे बातचीत चली
  • बुधवार को राजभर AIMIM चीफ ओवैसी से मिले थे

यूपी विधानसभा चुनाव-2022 से पहले राज्य में राजनीतिक हलचल तेज हो गई है. गुरुवार को सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने शिवपाल यादव से मुलाकात की. दोनों नेताओं के बीच करीब एक घंटे बातचीत चली. बताया जा रहा है कि ओम प्रकाश राजभर भागीदारी संकल्प मोर्चा में शिवपाल को हिस्सा बनाने के लिए उनके पास मिलने पहुंचे थे. 

एक दिन पहले ओम प्रकाश राजभर और AIMIM के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी की भी मुलाकात हुई थी. असदुद्दीन ओवैसी ने समाजवादी प्रगतिशील पार्टी के अध्यक्ष शिवपाल की भी तारीफ करते हुए कहा था कि वो बड़े नेता हैं और उनसे भी बातचीत हो रही है.

वहीं, शिवपाल यादव ने भी हाल ही में असदुद्दीन ओवैसी की तारीफ करते हुए उन्हें धर्मनिरपेक्ष नेता बताया था. ऐसे में माना जा रहा है कि असदुद्दीन ओवैसी 2022 के चुनाव में छोटे दलों का मजबूत गठबंधन बनाकर चुनावी मैदान में उतर सकते हैं. 

भागीदारी संकल्प मोर्चा

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर के नेतृत्व में बाबू सिंह कुशवाहा की जनाधिकार पार्टी, अनिल सिंह चौहान की जनता क्रांति पार्टी, बाबू राम पाल की राष्ट्र उदय पार्टी और प्रेमचंद्र प्रजापति की राष्ट्रीय उपेक्षित समाज पार्टी ने भागीदारी संकल्प मोर्चा के नाम से नया गठबंधन तैयार किया है. ये यूपी की पिछड़ी जातियों के नेताओं का गठबंधन है. 

ओम प्रकाश राजभर ने हाल ही में इस गठबंधन का ऐलान किया था, जिसके लिए अब यूपी में अपने सहयोगी असदुद्दीन ओवैसी की मुलाकात को इसी से जोड़कर देखा जा रहा है. इतना ही नहीं ओवैसी की पार्टी यूपी में मायावती के साथ भी गठबंधन करने के संकेत दे चुकी है. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें