scorecardresearch
 

पतंजलि ने यमुना प्राधिकरण के खाते में जमा किए 231 करोड़ रुपये, जल्द शुरू होगा फूड पार्क प्रोजेक्ट

पतंजलि ग्रुप यमुना एक्सप्रेस-वे के किनारे सेक्टर 24 और 24A में एक फूड पार्क और एक आयुर्वेदिक पार्क का निर्माण करने जा रही है. जबकि दूसरे चरण में पतंजलि एक बड़ा विश्वविद्यालय स्थापित करेगी.

X
स्वामी रामदेव (फाइल फोटो) स्वामी रामदेव (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पतंजलि ग्रेटर नोएडा में जल्द शुरू करेगी फूड पार्क प्रोजेक्ट
  • नोएडा में दूसरे चरण में पतंजलि खोलेगी यूनिवर्सिटी

उत्तराखंड के हरिद्वार और देश के अलग-अलग हिस्सों के बाद अब बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि ग्रेटर नोएडा में भी अपना प्रोजेक्ट शुरू करने जा रही है. पतंजलि कंपनी की ओर से यमुना प्राधिकरण के खाते में 231 करोड रुपये की धनराशि जमा करा दी गई है. 

जानकारी के मुताबिक, पतंजलि ग्रुप यमुना एक्सप्रेस-वे के किनारे सेक्टर 24 और 24A में एक फूड पार्क और एक आयुर्वेदिक पार्क का निर्माण करने जा रही है. जबकि दूसरे चरण में पतंजलि एक बड़ा विश्वविद्यालय स्थापित करेगी. पतंजलि ग्रुप के लिए यमुना विकास प्राधिकरण की ओर से 430 एकड़ जमीन आवंटित की गई थी. जिसमें करीब 300 एकड़ जमीन पर फूड पार्क बनाया जाएगा और 130 एकड़ जमीन में आयुर्वेद पार्क स्थापित किए जाने की योजना है. 

2018 में यूपी सरकार ने दी थी मंजूरी 

गौरतलब यह है कि पतंजलि ग्रुप का यह प्रोजेक्ट जेवर एयरपोर्ट के बेहद नजदीक है. जानकारी के मुताबिक, पतंजलि ग्रुप 5 साल में इन प्रोजेक्ट को पूरा करेगी. उत्तर प्रदेश सरकार ने 2018 में पतंजलि को सब्सिडी प्रदान करते हुए इस प्रोजेक्ट की मंजूरी दी थी. इस इकाई के शुरू होने से यहां करीब 30 हजार लोगों को रोजगार मिलने की उम्मीद है. पतंजलि आयुर्वेद से जुड़े इस प्रोजेक्ट में 937 करोड़ रुपये का निवेश करेगी. इस फैक्ट्री में हर्बल उत्पाद बनाए जाएंगे.  

नोएडा में भी आयुर्वेद का विस्तार

पतंजलि की आयुर्वेद इकाई में 39 एकड़ एरिया खुला होगा. 13 एकड़ में इंफ्रास्ट्रक्चर विकसित होंगे. 13 एकड़ में वेयर हाउस व कोल्ड स्टोरेज और 65 एकड़ में  मैनुफैक्चरिंग प्लांट लगेगा. कंपनी हर्बल उत्पाद में हैंडवॉश, फ्रूट कैंडी, एलोवेरा, टूथपेस्ट, ब्राह्मी, गिलोय, केसर, मुलेठी, शैंपू, ग्रीन टी, सिरप, शिशु केयर आदि बनाएगी. कॉस्मेटिक उत्पाद भी बनाए जाएंगे. जिसमें ओरल केयर, हेयर केयर, स्किन केयर, नहाने का साबुन आदि शामिल हैं. पतंजलि की तरफ से देश के कई राज्यों में मेगा फूड पार्क विकसित किए गए हैं. अब यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में भी वे अपना और आयुर्वेद का विस्तार करने जा रहे हैं.

किसानों को भी मिलेगा लाभ 

सरकार का यह मानना है कि यह फूड पार्क बड़ा निवेश लाएगा और रोजगार के अवसर पैदा करेगा. इसी के साथ उत्तर प्रदेश, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब और राजस्थान के किसानों को लाभ भी मिलेगा. इस प्रोजेक्ट में फल, सब्जी, औषधियों को प्रॉसेस करके खाद्य सामग्रियां और दवाएं तैयार की जाएंगी.  

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें