scorecardresearch
 

यूपी के नए DGP की चेतावनी- कानून तोड़ने वाले गोरक्षकों पर होगी सख्त कार्रवाई

सुलखान सिंह ने आजतक से बातचीत में कहा कि किसी के खिलाफ मारपीट करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे. उन्होंने साथ ही कहा कि अगर किसी को (गो-तस्करी की) ऐसी खबर मिलती है, तो वह पुलिस को सूचना दे, खुद कानून हाथ में ना ले.

X
उत्तर प्रदेश के नए पुलिस महानिदेशक सुलखान सिंह
उत्तर प्रदेश के नए पुलिस महानिदेशक सुलखान सिंह

उत्तर प्रदेश के नए पुलिस महानिदेशक सुलखान सिंह ने साफ किया कि गौरक्षा के नाम पर कानून को हाथ में लेने वालों के खिलाफ सख्ती के साथ कार्रवाई करेंगे. सुलखान सिंह ने आजतक से बातचीत में कहा कि किसी के खिलाफ मारपीट करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे. उन्होंने साथ ही कहा कि अगर किसी को (गो-तस्करी की) ऐसी खबर मिलती है, तो वह पुलिस को सूचना दे, खुद कानून हाथ में ना ले.

वहीं लव जिहाद को लेकर किए सवाल पर सुलखान सिंह ने कहा कि वह किसी भी तरह की मोरल पुलिसिंग नहीं करेंगे. हालांकि उन्होंने यह जरूर कहा कि अगर किसी लड़की के अपहरण या नाबालिग लड़कियों को भगाने की शिकायत आती है, तो पुलिस इस मामले में कार्रवाई करेंगे.

इसके साथ ही यूपी पुलिस DGP सुलखान सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तरफ से उन्हें काम करने की पूरी छूट मिली हुई और वह कानून में रेखांकित जिम्मेदारी को पूरी तरह निभाएंगे.

डीजीपी सुलखान सिंह ने कहा कि राज्य में किसी भी तरह की आपराधिक वारदात को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा, चाहे वो सत्ताधारी दल से हो या फिर किसी अन्य दल से जुड़ी हो. उन्होंने कहा कि इस मामले में उन्हें सीएम योगी आदित्यनाथ की ओर से सख्त निर्देश दिए गए हैं.

पढ़ें पूरा इंटरव्यू

सबसे बड़ा चैलेंज क्या होगा?
सुलखान सिंह- सबसे बड़ा चैलेंज पुलिस की इमेज ठीक करना है, जो पुलिस के व्यवहार से ही ठीक होगा. निष्पक्ष व्यवहार और एफआईआर दर्ज न होना सबसे बड़ा चैलेंज है, सही एफआईआर हो ये सुनिश्चित की जाएगी.

आपका रोड मैप क्या है, कैसे करेंगे इसे?
सुलखान सिंह- सरकार के एजेंडे पर तो काम करेंगे ही उसकी व्यापक योजना भी तैयार है, लेकिन हमारे सामने पुलिस के रवैये और व्यवहार की सबसे बड़ी समस्या है, उसे ठीक करना है. हमारा काम हमारे व्यवहार से छुप जाता है.

पुलिस का कौन सा व्यवहार सबसे परेशान करने वाला है?
सुलखान सिंह- सबसे ज्यादा शिकायत FIR दर्ज न करने की है तत्काल इस पर काम शुरू हो रहा है हर हाल में ये होगा. हमारा संकल्प है ये हर हाल में होगा.

सरकार के साथ नौकरशाही बदलती और पुलिस भी बदल जाती है. क्या सुलखान सिंह के वक्त पुलिस अपनी छाप छोड़ेगी?
सुलखान सिंह- उत्तर प्रदेश की पुलिस प्रोफेशनल है. ये राजनीतिक अदला बदली से प्रभावित नहीं होती, हमारा काम कानून में चार्टर्ड है और उसी तरीके से काम करती है, जो राजनीतिक चीजों से प्रभावित होते हैं, वो अपना काम नहीं करते. हमारी पुलिस को पूरी छूट दी गई है, हम नागरिकों को आश्वस्त करते हैं कि हम बिना किसी दबाव के, बिना किसी प्रलोभन के सख्त कार्रवाई करेंगे.

अपराधियों से साठ-गांठ पर बड़ा ट्रांसफर हुआ. क्या ऐसे पुलिस वालों पर कार्रवाई होगी और भू-माफिया के खिलाफ क्या कार्रवाई करेंगे?
सुलखान सिंह- ट्रान्सफर पॉलिसी का अक्षरसह पालन होगा, जिनका वक्त अपने इलाको में पूरा हो गया वह ट्रान्सफर होंगे. शत प्रतिशत ट्रान्सफर होंगे, किसी का नहीं रुकेगा. जो अधिकारी किसी व्यापार में लिप्त हैं, तो वे हटाए जाएंगे.. लेकिन ये गैरकानूनी नहीं है, इसलिए कोई और कार्रवाई नहीं होती, लेकिन अगर किसी के अपराधियों के साथ साठ गांठ है और साक्ष्य मिलेगा तो क्रिमिनल कार्रवाई की जाएगी.

लैंड माफिया के खिलाफ पुलिस का क्या रोल होगा?
सुलखान सिंह- माफिया के सभी कैटेगरी पर कार्यवाई होगी. जो लाभ के लिए काम करते हैं और पब्लिक लाइफ में भी रहते हैं, ऐसे लोगों को माफिया कहते हैं, इसमें सिर्फ लैंड माफिया ही नहीं, ठेकेदारी के माफिया है, शराब के माफिया है... सबके खिलाफ कार्यवाई होगी.

जबसे सरकार बनी है तथाकथित गौरक्षक कानून हाथ में ले रहे. क्या नहीं लगता कि ऐसे लोगो का मनोबल बढ़ा है, ऐसे लोगों के खिलाफ क्या कार्रवाई होगी?
सुलखान सिंह- कोई भी ऐसा व्यक्ति या संगठन लोगों के खिलाफ अपनी कार्रवाई नहीं कर सकता, अगर कोई ऐसा करता है तो ये जुर्म है और पुलिस उनके खिलाफ सख्ती से कार्रवाई करेगी. मैं सभी से अपील करता हूं वह पुलिस को बताये, ख़ुद कानून हाथ में न ले. फिर भी अगर कोई करेगा तो उसे परिणाम भुगतना होगा.

आजतक के स्टिंग पर अब तक कोई करवाई नहीं हुई. तो फिर कैसे माना जाए कि पुलिस गंभीर है?
सुलखान सिंह- पुलिस गंभीर है और स्टिंग का मामला जो आप बता रहे हैं, वह केस हम देखेंगे और उसमे जो भी सबूत होगा, उस पर कार्रवाई की जाएगी. बहुत से लोग उद्दंडता की बाते करते हैं, लेकिन बाते करने भर से कार्रवाई नहीं हो सकती, लेकिन अगर उसने किसी के साथ मारपीट की है, कानून हाथ में लिया है तो कार्रवाई से बच नहीं सकता.

लव जेहाद पर पुलिस क्या रोल होगा? महिला सुरक्षा के नाम पर मोरल पुलिसिंग हो रही है.
सुलखान सिंह- किसी को मोरल पुलिसिंग या इम्मोरल पुलिसिंग की इजाजत नहीं होगी. किसी भी नागरिक को मोरल पुलिसिंग की इजाजत नहीं है और लव जिहाद जैसे शब्द अस्पष्ट शब्द हैं, इस पर हम कोई कमेंट नहीं करेंगे, लेकिन अगर किसी लड़की को भगाने की कोई घटना होती है और लड़की अगर नाबालिग है तो उस पर कार्रवाई होगी.

एंटी रोमियो स्क्वॉड पर पुलिस ने अतिउत्साह दिखाया है?
सुलखान सिंह- हो सकता है एंटी रोमियो पर पुलिस से गलतियां हुईं हो, लेकिन हमने अधिकारियों को बताया है कि इस स्क्वॉड को कैसे काम करना है. पुलिस अधीक्षक अब खुद स्क्वॉड को बताएंगे. इसके बाद गलती की गुंजाइश नहीं रहेगी.

सिर्फ कार्यकर्ता या संगठन नहीं, बल्कि सांसद और विधायक जैसे लोग कानून हाथ में ले रहे हैं. मेरठ में सांसद के साथ गए लोगों ने एसपी के बंगले पर तोड़-फोड़ की. उसी तरह से विधायक ने भी टोल प्लाजा पर हाथापाई की. कैसे निबटेंगे इनसे?
सुलखान सिंह- पुलिस इस तरह के मामलों में सख्त कार्यवाई करेगी और आप देखेंगे इस मामले में किसी के साथ कोई रियायत नहीं होगी.

कानून व्यवस्था अब भी बड़ा सवाल बना हुआ है. थाने गई लड़की को गोली मार दी जाती है. वाराणसी में 10 करोड़ की लूट हो जाती है. गाड़ी में जिंदा जला दिया जाता है.
सुलखान सिंह- कानून-व्यवस्था और अपराध को अलग-अलग देखना पड़ेगा. अपराध की घटनाएं कंट्रोल की जा सकती है, कम की जा सकती हैं, समाप्त नहीं हो सकती. पुलिस निष्पक्ष और त्वरित कार्यवाई करेगी, यह मैं सुनिश्चित करता हूं. ये लोगों को आश्वस्त करता हूं. मैं ये कह सकता हूं कि अपराधियों के दिल में भय पैदा होगा. सड़कों पर होने वाली अराजकता पूरी तरह खत्म होगी.

बड़े पैमाने पर पुलिस वालों का तबादला होगा. हम लोगों की एक खास ट्रांसफर पॉलिसी है और आप देखेंगे इस सीजन में वैसे तमाम लोग हटा दिए जाएंगे, जो लंबे समय से एक जगह जमे हुए हैं और वे वैसी जगह भेजे जाएंगे, जहां वह डिजर्व करते हैं.

आप की छवि ऐसे अधिकारी की है, जो किसी की सुनता नहीं. योगी सरकार में आप किसकी कितनी सुनेंगे? योगी आदित्यनाथ की कितनी सुनेंगे?
सुलखान सिंह- मैं सबकी सुनता हूं आपकी भी सुन लूंगा, नागरिकों की भी सुन लूंगा, जनप्रतिनिधियों की भी सुन लूंगा. मुख्यमंत्री का जो आदेश होगा उस पर भी कार्रवाई होगी. मुख्यमंत्री से आज मिलने गया था. उन्होंने बड़े व्यापक निर्देश दिए हैं. जितने भी आदेश मिले हैं उस पर कार्रवाई होगी. आपकी बात सुनना हमारा दायित्व है, हम सुनेंगे, लेकिन हम यह आश्वस्त करते हैं की कार्रवाई हम निष्पक्ष होकर ही करेंगे. जो आम लोगों के साथ होगा, वही हम खास लोगों के साथ भी करेंगे.

आज आपकी सीएम से मुलाकात में क्या खास दिशानिर्देश मिले हैं?
सुलखान सिंह- सीएम ने काफी विस्तृत दिशा निर्देश दिया है. हमने उसे नोट किया है, खासतौर सांप्रदायिक सौहार्द बनाए रखने में, पब्लिक ऑर्डर बनाए रखने में, क्राइम के मामले में, गश्त के ममाले में, ट्रैफिक के मामले में, आतंकवाद के बारे में उन्होने जो निर्देश दिया है, उस पर कदम उठाया जाएगा.

योगी सरकार के दिशानिर्देशों का असर कब से दिखेगा?
सुलखान सिंह- कल से ही आपको इसका असर दिखने लगेगा. जैसे-जैसे कार्रवाई होगी, आपको यह सब दिखाना शुरू हो जाएगा.

अखिलेश सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट डायल 100 और 1090 जैसी योजनाओं का क्या होगा?
सुलखान सिंह- अखिलेश सरकार के इन दोनों योजनाओं में बदलाव की कोई बात नहीं है. कोई कमी होगी तो उसे ठीक किया जाएगा.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें