scorecardresearch
 

जानिए जेपी नड्डा की टीम में उत्तर प्रदेश इतना अहम क्यों?

कई साल बाद पार्टी के कोषाध्यक्ष पद पर उत्तर प्रदेश को जगह मिली है. बरेली के विधायक राजेश अग्रवाल राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष बनाए गए हैं जो कुछ वक्त पहले तक योगी सरकार के वित्त मंत्री भी हुआ करते थे.

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (फाइल फोटो) बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • जेपी नड्डा ने अपनी राष्ट्रीय टीम घोषित कर दी है
  • उत्तर प्रदेश को फिर काफी महत्व दिया गया है
  • राजेश अग्रवाल राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष बनाए गए हैं

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने अपनी राष्ट्रीय टीम घोषित कर दी है. 2022 में चुनाव को देखते हुए पार्टी ने अपनी नवगठित राष्ट्रीय कार्यकारिणी और विभिन्न मोर्चों में इस बार उत्तर प्रदेश को फिर काफी महत्व दिया है. जेपी नड्डा की नई टीम में उत्तर प्रदेश से एक राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, एक राष्ट्रीय महामंत्री, एक सह-संगठन मंत्री, कोषाध्यक्ष, किसान मोर्चा अध्यक्ष, सोशल मीडिया हेड सहित कई प्रवक्ताओं को जगह मिली है.

कई साल बाद पार्टी के कोषाध्यक्ष पद पर उत्तर प्रदेश को जगह मिली है. बरेली के विधायक राजेश अग्रवाल राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष बनाए गए हैं जो कुछ वक्त पहले तक योगी सरकार के वित्त मंत्री भी हुआ करते थे. पिछले मंत्रिमंडल फेरबदल में स्वास्थ्य कारणों की वजह से उन्हें मंत्रिमंडल से बाहर कर दिया गया था, लेकिन जेपी नड्डा की राष्ट्रीय टीम में वो कोषाध्यक्ष बनकर सामने आए हैं. 

कभी योगी के वित्त मंत्री रहे, अब पार्टी का वित्त संभालेंगे

राजेश अग्रवाल पहले बरेली शहर सीट से विधयाक बने फिर परिसीमन के बाद कैंट सीट से लगातार चुनाव जीत कर छठीं बार विधायक बने. कल्याण सिंह मंत्रिमंडल से डॉ. दिनेश जौहरी की विदाई के बाद 1993 में तत्कालीन महानगर कार्यवाह राजेश अग्रवाल को बीजेपी ने पहली बार शहर सीट पर चुनाव लड़ने का मौका दिया था. यह चुनाव जीतने के बाद इस सीट पर वो 1996, 2002 और 2007 में भी जीते. कैंट सीट बनी तो 2012 और 2017 में राजेश अग्रवाल विधायक बने. छह बार लगातार विधायक रहे राजेश अग्रवाल, व्यापार कर मंत्री रहे हैं. साथ ही पूर्व में वो विधानसभा उपाध्यक्ष भी रहे हैं. 

राजकुमार चाहर किसान मोर्चा के अध्यक्ष बनाए गए हैं

फतेहपुर सीकरी लोकसभा से सांसद राजकुमार चाहर को भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चे का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया गया है. 1988 में राजकुमार चाहर ने भारतीय जनता पार्टी में प्रवेश कर लिया और उसी साल चाहर को भारतीय जनता युवा मोर्चा का मंत्री बना दिया गया था. 2014 में फतेहपुर सीकरी लोकसभा सीट के लिए टिकट मांगा, लेकिन चाहर को लोकसभा का टिकट नहीं मिला और यह टिकट चौधरी अजीत सिंह की पार्टी से आए चौधरी बाबूलाल को दे दिया गया.

पार्टी के इस निर्णय के बाद राजकुमार के पास विधानसभा चुनाव के इंतजार के अलावा कोई रास्ता नहीं था. लिहाजा चाहर ने 2017 में फतेहपुर सीकरी विधानसभा सीट से पार्टी का टिकट मांगा लेकिन यह टिकट पार्टी में चौधरी उदय भान सिंह को दे दिया जो वर्तमान में उत्तर प्रदेश सरकार में राज्य मंत्री हैं. 2019 में राजकुमार चाहर की किस्मत यकायक चमकी और पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने चाहर को फतेहपुर सीकरी लोकसभा का टिकट हाथ में थमा दिया. उनके खिलाफ खड़े थे कांग्रेस के दिग्गज नेता राज बब्बर, लेकिन इस चुनाव में राजकुमार चाहर ने राज बब्बर को लगभग 4 लाख मतों से हराकर अपनी जीत के झंडे गाड़ दिए. 

धौरहरा सांसद रेखा वर्मा बनीं पार्टी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष 

लखीमपुर खीरी जिले में मकसूदपुर गांव की रहने वाली रेखा वर्मा कांग्रेस के बड़े नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद को लगातार दो बार धौराहरा लोक सभा क्षेत्र से हराकर लोकसभा पहुंचीं है जिसके चलते उन्हें राष्ट्रीय कार्यकारिणी में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाकर अहम जिम्मेदारी सौंपी गई है. 

वहीं, गौरव भाटिया और सुधांशु दुबे सरीखे तेजतर्रार लोग जेपी नड्डा की टीम में प्रवक्ता बनाए गए हैं. इसके अलावा राष्ट्रीय संगठन मंत्री के तौर पर शिवकुमार होंगे. अमित मालवीय का भी उत्तर प्रदेश से कनेक्शन है, जो एक बार फिर सोशल मीडिया और आईटी सेल की कमान संभालेंगे. 

इनपुटः आगरा से अरविंद शर्मा, लखीमपुर खीरी से अभिषेक और बरेली से मदन गोपाल

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें