scorecardresearch
 

मुस्‍लि‍म धर्म गुरु कल्‍बे सादिक ने कहा- जो मुस्‍लि‍म लव जेहाद करे, उसे जान से मार देना चाहिए

वाराणसी में मुस्‍लि‍म धर्म गुरु कल्‍बे सादिक ने एक मजलिस के दौरान कहा कि जो मुस्‍लि‍म लव जेहाद करता है उसे जान से मार देना चाहिए.

X
शूटर तारा शाहदेव की फाइल फोटो शूटर तारा शाहदेव की फाइल फोटो

प्‍यार और जेहाद को लेकर भले ही आपकी अलग-अलग राय हो, लेकिन सियासत के सूरमाओं के बाद अब धर्म की नगरी में इस ओर चर्चा और बयानों का दौर शुरू हो गया है. जम्‍मू-कश्‍मीर में बाढ़ के कारण लाखों जानें आफत में हैं, लेकिन धर्म के तथाकथि‍त पैरोकार अभी भी लव जेहाद पर चर्चा करना ज्‍यादा लाजमी समझते हैं. बहरहाल, इस ओर ताजा बयान वाराणसी से आया है. यहां मुस्‍लि‍म धर्म गुरु कल्‍बे सादिक ने एक मजलिस के दौरान कहा कि जो मुस्‍लि‍म लव जेहाद करता है उसे जान से मार देना चाहिए.

तो बात धर्म की है, जो जीना सिखाता है. लेकिन धर्म के पैरोकार मरने-मारने की बात करते हैं. दरअसल, इस ओर एक और बयान सुन्‍नी मौलवियों व अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से आया है. दिलचस्‍प यह है कि यह 'लव जेहाद' के शाब्दिक अर्थ को लेकर है. यहां के शिक्षकों ने कहा है कि इस्‍लाम में 'लव जेहाद' जैसी कोई अवधारणा नहीं है और ये शब्‍द गलत तरीके से गढ़ा गया है. यानी कि मामले से इतर इसके शाब्दिक अर्थ को लेकर एक और नई बहस.

धर्म गुरु की 'धार्मिक वाणी'
जानकारी के मुताबिक वाराणसी के कच्चीबाग में मुस्‍लि‍म धर्म गुरु कल्‍बे सादिक एक मजलिस को संबोध‍ित कर रहे थे. इस दौरान उन्‍होंने कहा कि जो मुस्‍लि‍म लव जेहाद करे उसे मार देना चाहिए. उन्‍होंने इराक मसले पर अपनी बात रखते हुए कहा कि जैसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान में सैलाब आने के बाद मदद के लिए हाथ बढ़ाया वैसा ही इराक के लिए भी होना चाहिए. यही नहीं उन्‍होंने वाराणसी का विकास गंगा-जमुनी तहजीब के अनुसार होना चाहिए.

'लव जेहाद' की अवधारणा पर बहस
दूसरी ओर, अलीगढ़ में लव जेहाद का मामला अब शब्‍द की अवधारणा तक पहुंच गया है. सुन्नी मौलवियों और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के शिक्षकों ने गुरुवार को कहा कि इस्लाम में 'लव जेहाद' जैसी कोई अवधारणा नहीं है और ये शब्द गलत तरीके से गढ़ा गया है. एएमयू के सुन्नी धर्मशास्त्र विभाग के अध्यक्ष मुफ्ती जाहिद अली खान और एसोसिएट प्रोफेसर एम सलीम ने एक बयान में कहा, 'किसी भी तरह का झूठा वायदा कर निर्दोष लड़कियों को फुसलाना इस्लाम में ना सिर्फ नितांत वर्जित है बल्कि इसे घृणित कृत्य माना गया है. कोई भी यदि ऐसा करता है और इसके लिए किसी भी तरह की सफाई या तर्क देता है तो वह इस्लाम के साथ घोर अन्याय कर रहा है. हम कड़े शब्दों में इसकी निंदा करते हैं. इस्लाम में लव जेहाद जैसी कोई अवधारणा नहीं है और ये शब्द गलत तरीके से गढ़ा गया है.'

शिक्षकों ने कहा कि जिस ढंग से कुछ समूह इस अस्तित्वहीन मुद्दे को उठा रहे हैं, वे महज समाज का ध्रुवीकरण कर रहे हैं और अल्पकालिक फायदा हासिल कर रहे हैं. बयान में कहा गया कि कुछ कट्टरपंथी हिन्दू संगठनों और राजनीतिक दलों द्वारा मौजूदा समय में चलाया जा रहा 'लव जेहाद' अभियान बहुत ही खतरनाक है और यह देश की शांति और संप्रभुता के लिए विनाशकारी साबित हो सकता है. उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि राज्य सरकारों और केंद्र ने इस मुद्दे पर आवश्यक कदम नहीं उठाए. इस तरह के अभियान से देश का सामाजिक ताना-बाना ध्वस्त हो जाएगा और आर्थिक विकास कार्यक्रम पटरी से उतर जाएंगे.

'ऐसे लोगों को दंडित किया जाना चाहिए'
जाहिद ने कहा कि कुछ हिन्दू संगठनों के नेताओं ने जैसा आरोप लगाया है, यदि धर्म परिवर्तन के उद्देश्य से हिन्दू लड़कियों को फुसलाने का तथाकथित संगठित प्रयास होता है तो उसे स्थापित मुस्लिम धार्मिक संगठनों के संज्ञान में लाया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि फिर ये हमारा कर्तव्य होगा कि इस तरह का काम करने वालों को हम दंडित करें. जाहिद ने कहा कि जेहाद हमारे समुदाय के लिए अत्यंत पवित्र शब्द है और सच्चे अर्थों में यह आध्यात्मिक उन्नयन के लिए प्रयत्न का प्रतीक है. उन्होंने कहा कि जेहाद का इस्तेमाल दमनकारी के खिलाफ संघर्ष के लिए भी होता है. किसी देश या भूमि पर कब्जा करने के लिए संघर्ष कर रहे और निर्दोषों की हत्याओं में शामिल लोग इस शब्द का दुरुपयोग कर रहे हैं.

धोखा हुआ तो मामला लव जेहाद है: बीजेपी
इस बीच बीजेपी ने लव जेहाद को महत्वपूर्ण मुद्दा बताते हुए कहा कि यदि कोई किसी लड़की को फुसलाकर उससे विवाह करता है और बाद में लड़की महसूस करती है कि उसके साथ धोखा हुआ है तो यह लव जेहाद हुआ. बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी से जब इस बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, 'झूठा आभामंडल बनाकर यदि कोई युवक किसी युवती से विवाह करता है और बाद में युवती को लगता है कि उसके साथ धोखा किया गया है तो मामला गंभीर है.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें