scorecardresearch
 

अयोध्या की रामलीला में अंगद बने मनोज तिवारी, कहा- आज भी प्रासंगिक हैं रामायण के संवाद

अयोध्या की रामलीला में अंगद की भूमिका निभाने पहुंचे मनोज तिवारी ने मीडिया से संवाद के दौरान रामायण से बीजेपी का रिश्ता जोड़ा. वहीं दूसरी तरफ मंच पर अंगद के रूप में मनोज तिवारी ने समां बांध दिया. रावण और अंगद संवाद अयोध्या की रामलीला का सबसे मजबूत पहलू रहा.

अयोध्या की रामलीला में अंगद बने मनोज तिवारी अयोध्या की रामलीला में अंगद बने मनोज तिवारी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अयोध्या की रामलीला में अंगद बने मनोज तिवारी
  • बिहार से अयोध्या पहुंचे बीजेपी नेता मनोज तिवारी
  • मनोज तिवारी बोले- दो पक्षीय लड़ाई है बिहार में

अयोध्या की रामलीला में अंगद की भूमिका निभाने पहुंचे मनोज तिवारी ने मीडिया से संवाद के दौरान रामायण से बीजेपी का रिश्ता जोड़ा. वहीं दूसरी तरफ मंच पर अंगद के रूप में  मनोज तिवारी ने समां बांध दिया. रावण और अंगद संवाद अयोध्या की रामलीला का सबसे मजबूत पहलू रहा. इसीलिए मनोज तिवारी ने मंच पर जाने के पहले अंगद के कई डायलॉग सुनाए और अंगद-रावण संवाद को आज के समय की उपयोगिता बताते हुए इससे सीख लेने की नसीहत दी.

बिहार से अयोध्या की रामलीला में अंगद का किरदार निभाने अयोध्या पहुंचे बीजेपी नेता मनोज तिवारी ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा, "जिसने रामायण को अच्छे से पढ़ लिया और मन में उतार लिया और अगर वह समाज सेवा में या राजनीति में है तो वह फिर बीजेपी ज्वाइन कर लेगा."

मनोज तिवारी ने आगे कहा कि मेरी बात सुनकर लोग हंसेंगे लेकिन जब आप राम की मर्यादा को समझेंगे तो फिर आप को भारतीय जनता पार्टी से अच्छी कोई पार्टी नहीं लगेगी और वह निश्चित रूप से मोदी जी के साथ चला जाएगा. इसके साथ ही मनोज तिवारी ने कहा कि नक्सली पार्टी माले से समझौता करने वाले लालू के बेटे की पार्टी और सुशांत सिंह राजपूत केस में एफआईआर दर्ज न करने देने वाली कांग्रेस से मुकाबला है. बिहार ऐसी पार्टी और गठबंधन को जवाब देगा. 

मनोज तिवारी ने इस मौके पर कहा कि रामलीला को बचाना बहुत जरूरी है, इसका संरक्षण बहुत जरूरी है. क्योंकि हमारे देश मे इतने लोग साक्षर ही नहीं थे तो रामायण पढ़े कैसे होंगे फिर भी राम जी घर-घर में हैं, सीता जी की मर्यादा घर-घर में है, रावण के अंहकार से भी हर कोई सावधान है, तो रामलीला का जितना प्रचार-प्रसार हो सके बेहतर है. आज मैं उसी भूमिका में हूं मैं रामलीला का प्रचार-प्रसार कर रहा हूं. 

देखें: आजतक LIVE TV

अंगद की भूमिका अदा करने अयोध्या पहुंचे मनोज तिवारी ने कहा कि यहां बिल्कुल दर्शक नहीं है लेकिन फिर भी मैं उतनी ही शिद्दत के साथ अपना रोल करूंगा, क्योंकि दुनिया भर में लोग जानें कि भारत की संस्कृति भगवान राम की संस्कृति है और रावण की संस्कृति से हमेशा दूर रहना है.
 
अयोध्या की रामलीला में अंगद की भूमिका निभाने आए मनोज तिवारी ने बिहार चुनाव को लेकर बड़े संकेत दिए. बिहार से अयोध्या पहुंचे मनोज तिवारी ने कहा कि दो पक्षीय लड़ाई बिहार में है. बिहार में हम पहले से अच्छे बहुमत के साथ चुनाव जीत रहे हैं.

मनोज तिवारी ने अंगद का रोल समझाते हुए कहा कि अंगद युद्ध को रोकने की अंतिम कड़ी थे, अंतिम प्रयास थे. अंगद जब भगवान राम का अंतिम संदेश लेकर जाते हैं तो उन्होंने हर प्रकार से रावण को समझाया. अंगद ने एक बहुत बड़ी बात कही थी कि यदि दोनों तरफ से संधि होगी तो सैनिक बलिदान नहीं होंगे. यह ठाट-बाट बने रहेंगे, जनपद सुनसान नहीं होंगे. रण की चंडी जब चेतेगी तो बड़ा प्रलय होगा. लेकिन रावण को नहीं समझ में आया.

मनोज तिवारी ने आगे कहा कि आज के समय में भी इसको देखें राजनीतिक रूप से तो इसका बड़ा संबंध है क्योंकि युद्ध कभी भी अंतिम निदान नहीं है और हम तो बुद्ध के देश से हैं. युद्ध के लिए कहा जाता है कि भगवान राम ने रावण से कहा था कि अगर आप सीता को वापस कर देते हो तो अभी भी संधि हो सकती है लेकिन रावण ने नहीं माना. तो मैं समझता हूं अंगद और रावण के संवाद में बहुत सारी बातें हैं, बहुत कूटनीति है. अंगद को अपनी तरफ मिलाने की कोशिश रावण ने की थी. रावण ने कई तरह से अंगद को डराने की कोशिश की थी.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें