scorecardresearch
 

Narendra Giri suicide note: मौत से पहले नरेंद्र गिरि ने बनाया था वीडियो, शिष्य का दावा- उसमें सुसाइड नोट वाली बात!

Narendra giri suicide note video: महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत के बाद पुलिस की जांच जारी है. इस बीच कई तरह की नई बातें सामने आ रही हैं. नरेंद्र गिरि की एक शिष्य ने आजतक को बताया है कि महंत ने आत्महत्या से पहले अपना एक वीडियो भी बनाया था.

Mahant Narendra Giri Maharaj (File Photo) Mahant Narendra Giri Maharaj (File Photo)
5:46
स्टोरी हाइलाइट्स
  • महंत नरेंद्र गिरि की मौत की जांच जारी
  • पुलिस ने अभी तक तीन को हिरासत में लिया
  • मौत से पहले बनाया था वीडियो: शिष्य

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि (Narendra Giri) की सोमवार को संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई. शुरुआती जांच में ये सुसाइड(narendra giri suicide note)  का मामला बताया जा रहा है, जिसमें नरेंद्र गिरी के शिष्य आनंद गिरि को उकसाने के लिए हिरासत में लिया गया है. लेकिन अब नरेंद्र गिरि की मौत से जुड़ी अन्य कई बातें सामने आ रही हैं. 

नरेंद्र गिरि के शिष्य निर्भय द्विवेदी का कहना है कि आत्महत्या से पहले महंत नरेंद्र गिरि ने सुसाइड नोट लिखने के अलावा एक वीडियो भी बनाया था. ये वीडियो (narendra giri suicide video) उन्होंने अपने मोबाइल फोन पर बनाया था. 

निर्भय द्विवेदी के मुताबिक, इस वीडियो में महंत नरेंद्र गिरि ने विस्तार से बातें कही हैं, जो सुसाइड नोट में लिखी गई थीं. ये वीडियो अभी पुलिस के पास है. 

‘बड़े-बड़े अक्षरों में लिखते थे महंत’

सुसाइड नोट को लेकर उठ रहे सवालों पर शिष्य निर्भय द्विवेदी ने आजतक से बताया कि महंत नरेंद्र गिरि बड़े-बड़े अक्षरों में लिखते थे. उनकी भाषा ज़रूर टूटी-फूटी थी, लेकिन वह लिख लेते थे. उन्होंने जो सुसाइड नोट लिखा, उसे लिफाफे में बंद किया था. 

गौरतलब है कि महंत नरेंद्र गिरि का शव प्रयागराज में बाघंबरी मठ में उनके आवास पर मिला, नरेंद्र गिरि का शव फांसी से लटका हुआ था. जब पुलिस ने कमरे की तलाशी ली, तो वहां पर एक सुसाइड नोट भी मिला. पुलिस के मुताबिक, ये सुसाइड नोट करीब 7 पन्नों का था. 



सुसाइड नोट में था शिष्य का ज़िक्र

इस सुसाइड नोट में महंत नरेंद्र गिरि ने लिखा था कि वह काफी परेशानी से गुज़र रहे थे, इसलिए अपने जीवन को खत्म कर रहे हैं. सुसाइड नोट में ही शिष्य आनंद गिरि का नाम था. 

पुलिस ने इसी के बाद हरिद्वार से आनंद गिरि को हिरासत में लिया, वहीं प्रयागराज में लेटे हनुमान मंदिर के दो पुजारी को हिरासत में लिया गया है. पुलिस द्वारा इस पूरे मामले में एफआईआर दर्ज कर ली गई है, शुरुआती जांच में सुसाइड की बात कही गई है लेकिन तमाम रिपोर्ट्स आने के बाद सच्चाई का पता चलेगा.

 

  • क्या इस केस की CBI जांच होनी चाहिए?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें