scorecardresearch
 

लखनऊ गैंग रेप केसः पोस्‍टमॉटर्म रिपोर्ट पर भड़के परिजन, बोले- CBI से हो जांच नहीं तो कर लेंगे क्रिया

मृत महिला के पिता का आरोप है कि सरकार पुलिस इस केस को दबाकर किसी व्यक्ति विशेष को बचाना चाहती है. उन्होंने कहा, 'मेरे पास किडनी डोनेट करने का प्रमाण भी है, जो महिला के एक किडनी दान देने का साक्ष्य प्रस्तुत करता है.'

X
symbolic image symbolic image

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के मोहनलालगंज में हुए गैंगरेप और हत्या के मामले की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट पर मृत महिला के परिजनों ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं. रिपोर्ट में मृत महिला की दो किडनी का जिक्र है, जबकि महिला के पिता का दावा है कि उनकी बेटी ने साल 2011 में ही अपने पति को एक किडनी डोनेट कर दी थी.

मृत महिला के पिता का आरोप है कि सरकार और पुलिस इस केस को दबाकर किसी व्यक्ति विशेष को बचाना चाहती है. उन्होंने कहा, 'मेरे पास किडनी डोनेट करने का प्रमाण भी है, जो महिला के एक किडनी दान देने का साक्ष्य प्रस्तुत करता है.'

इसके अलावा मृत महिला की सास ने कहा, 'साल 2000 में अपने बेटे की जान बचाने के लिए किडनी दान दी थी, जो दस साल चली और फिर फेल हो गई.' इसके बाद बहू ने किडनी दी, तब जाकर बेटे की जान बची, लेकिन डेढ़ महीने बाद ही बेटे की मौत हो गई.'

मृत महिला के ससुर ने चेतावनी दी है कि अगर मामले की सीबीआई जांच नहीं होती है, तो वे बहू के ब्रह्मभोज बीतने के बाद पूरे परिवार समेत आत्मदाह कर लेंगे.

उन्होंने कहा, 'पोस्टमार्टम रिपोर्ट गलत है मेरी बेटी मार्च 2011 में किडनी डोनेट कर चुकी है, तो एक ही किडनी होनी चाहिए. ये रिपोर्ट गलत है. सरकार मामले की लीपापोती कर किसी को बचाना चाहती है. हमारी मांग है कि मामले की जांच सीबीआई से हो और मामला प्रकाश में आए कि मेरी बेटी ने किडनी दान की है.'

उन्होंने कहा, 'अभी तो हम क्रिया कर्म में लगे है, लेकिन जिस दिन ये निबट जाएगा, उसके बाद पूरे परिवार सहित मैं इस चौराहे पर आत्मदाह कर लूंगा. मेरे पास खोने के लिए कुछ नहीं है. हम चाहते हैं कि इस मामले की जांच सीबीआई से हो, हमको रिपोर्ट पर भरोसा नहीं है.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें