scorecardresearch
 

ज्ञानवापी सर्वे का फैसला देने वाले जज की सुरक्षा में लगे 9 पुलिसकर्मी, मिली थी धमकी

वाराणसी के पुलिस कमिश्नर ए सतीश गणेश ने कहा कि जज रवि कुमार दिवाकर को पहले से ही घर से लेकर दफ्तर तक सुरक्षा गई है. रवि कुमार दिवाकर और उनके परिवार की सुरक्षा में 9 पुलिसकर्मी तैनात हैं.

X
सिविल जज रवि कुमार दिवाकर सिविल जज रवि कुमार दिवाकर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सिविल जज रवि दिवाकर को मिली धमकी
  • रवि दिवाकर की सुरक्षा में तैनात हैं पुलिसकर्मी

वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद केस की सुनवाई करने वाले सिविल जज रवि कुमार दिवाकर को धमकी देने के मामले में पुलिस सतर्क हो गई है. इसके साथ ही सिविल जज रवि कुमार दिवाकर की सुरक्षा बढ़ा दी गई है. रवि कुमार दिवाकर और उनके परिवार की सुरक्षा में 9 पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं. इस बीच जज रवि ने गृह मंत्रालय को एक चिट्ठी लिखी है.

सिविल जज रवि कुमार दिवाकर ने उत्तर प्रदेश के गृह सचिव को चिट्ठी लिख कर न्यायपालिका पर लगाए जा रहे आरोपों के बारे में बताया. जज दिवाकर ने लिखा है कि उन्हें रजिस्टर्ड डाक मिला, ये पत्र इस्लामिक आगाज मूवमेंट की ओर से कासिफ अहमद सिद्दीकी ने भेजा है, इसमें कई आपत्तिजनक बातें लिखी गई हैं.

सिविल जज रवि कुमार दिवाकर के मुताबिक, चिट्ठी में बार बार विभाजित भारत शब्द का इस्तेमाल काया गया है, विभाजित भारत के मुसलमान और हिंदुओं के ध्रुवीकरण की बात कही गई है. जज दिवाकर ने प्रधान सचिव, गृह मंत्रालय से इस बाबत कार्रवाई करने की बात चिट्ठी में कही है. इस चिट्ठी के मिलने के बाद जज रवि दिवाकर की सुरक्षा बढ़ा दी गई थी.

वाराणसी के पुलिस कमिश्नर ए सतीश गणेश ने कहा कि जज रवि कुमार दिवाकर को पहले से ही घर से लेकर दफ्तर तक सुरक्षा गई है. रवि कुमार दिवाकर और उनके परिवार की सुरक्षा में 9 पुलिसकर्मी तैनात हैं. 5 पुलिसकर्मी वाराणसी पुलिस से वाराणसी में तैनात हैं और 4 पुलिसकर्मी लखनऊ पुलिस से लखनऊ में तैनात किए हैं.

सिविल जज रवि दिवाकर को धमकी भरी चिट्ठी मिलना इसलिए मायने रखता है क्योंकि वे ज्ञानवापी मामले में सुनवाई कर रहे हैं. ज्ञानवापी में सर्वे वाला फैसला भी उन्होंने ही सुनाया था. ऐसे में उनका नाम लगातार चर्चा में बना हुआ है. उस समय भी सर्वे का फैसला सुनाते वक्त सिविल जज ने अपनी जान को खतरा बताया था. 

उस समय सिविल जज रवि दिवाकर ने कहा था कि साधारण केस में भी डर का माहौल बनाया गया, डर इतना कि मेरे परिवार को मेरी और मुझे अपने परिवार की सुरक्षा की चिंता बनी रहती है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें