scorecardresearch
 

बिना लाइसेंस हस्की और शिट्जू के पपी को रखने के आरोप में शख्स गिरफ्तार

ग्रेटर नोएडा के थाना बीटा-2 पुलिस ने बिना लाइसेंस हस्की और शिट्जू ब्रीड के पपी (कुत्ते का बच्चा) रखने वाले आरोपी को गिरफ्तार किया है. पुलिस की माने तो माइनस टेम्प्रेचर में रहने वाले इन पपी को रखने के लिए लाइसेंस लेना पड़ता है.

हस्की और शिट्जू ब्रीड के पपी हस्की और शिट्जू ब्रीड के पपी

  • संस्था की शिकायत पर हुई कार्रवाई
  • मामले की जांच में जुटी पुलिस

ग्रेटर नोएडा के थाना बीटा-2 पुलिस ने बिना लाइसेंस हस्की और शिट्जू ब्रीड के पपी (कुत्ते का बच्चा) रखने वाले आरोपी को गिरफ्तार किया है. पुलिस की माने तो माइनस टेम्प्रेचर में रहने वाले इन पपी को रखने के लिए लाइसेंस लेना पड़ता है. पपी को उनकी मां से अलग नहीं कर सकते, ये एक जुर्म है, जिस आरोप में शख्स को गिरफ्तार किया गया है. वहीं, आरोपी का कहना है कि उसे कोई पेटेगिरी की ही दुकान पर देकर गया था.

पीपल फॉर एनिमल संस्था की शिकायत पर पुलिस ने कार्रवाई की है. संस्था ने पुलिस को सूचना दी कि स्वर्ण नगरी में पेटेगिरी बेचने वाली दुकान में वो विदेशी नस्ल के पपी बेचे जा रहे हैं, जो कि बिना लाइसेंस कोई भी नहीं बेच सकता और खरीद सकता है. साथ ही इतने छोटे से पपी को इनकी मां से अलग नहीं किया सकता.

पीपल फॉर एनिमल संस्था चलाने वाली कावेरी राना भारद्वाज ने बताया कि 60 दिन से कम 25 से 28 दिन के पपी अंडर द टेबल अनलिगल तरीके से बेचे जा रहे थे. पपी का बिना लाइसेंस खरीदना और बेचना दोनों ही गैरकानूनी है. साइबेरियन हस्की साइबेरिया का ब्रीड है, ये माइनस टेम्प्रेचर में रहने वाला है और अगर इसे इंडिया में रखा जाए तो सिर्फ जहां एसी लगी वहीं रख सकते हैं, जबकि शिट्जू जो कि टॉय पपी है ये सिर्फ गोदी में ही खेलते हैं और इनका आज कल अन्दर द टेबल खूब कारोबार चल रहा है.

फिलहाल, पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है और मामले की जांच की जा रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें