scorecardresearch
 

खुद घरेलू हिंसा की आरोपी हैं दयाशंकर की पत्नी स्वाति, भाभी ने कराई थी FIR

दरअसल, स्वाति सिंह पर भाभी के साथ मारपीट करने, बिना तलाक लिए भाई की दूसरी शादी कराने और भाभी को घर से निकालने का आरोप है.

स्वाति सिंह स्वाति सिंह

बीजेपी से 6 साल के लिए निष्कासित हुए दयाशंकर सिंह की पत्नी स्वाति सिंह ने अपने और बेटी के खिलाफ दिए गए आपत्त‍िजनक बयानों पर जिस तरह बसपा पर हल्ला बोला, उससे वे रातोंरात चर्चा में आ गईं. लेकिन कम ही लोग जानते होंगे कि महिलाओं के सम्मान की बात करने वाली स्वाति खुद महिला उत्पीड़न के मामले में आरोपी हैं.

स्वाति के लोहा लेने की क्षमता ने बीजेपी को इतना प्रभावित किया कि पति की जगह उन्हें चुनाव लड़ाने की चर्चा हो रही थी. दरअसल, स्वाति सिंह पर भाभी के साथ मारपीट करने, बिना तलाक लिए भाई की दूसरी शादी कराने और भाभी को घर से निकालने का आरोप है. लखनऊ के आशियाना थाने में स्वाति के खिलाफ अपनी ही भाभी के के खिलाफ मारपीट, गाली-गलौज और घरेलू हिंसा का मामला दर्ज है.

स्वाति के खिलाफ भाभी ने दर्ज कराया था केस
स्वाति के खिलाफ मुकदमा उनके अपने सगे भाई की पत्नी आशा सिंह ने दर्ज कराया. ये मामला करीब 11 साल पुराना है. 2008 में आशा सिंह ने लखनऊ के आशियाना थाने में अपनी ननद स्वाति के खिलाफ पति की दूसरी शादी कराने का ये मामला दर्ज करा रखा था.

दयाशंकर और स्वाति में भी चल रही है तकरार
यही नहीं, स्वाति और दयाशंकर सिंह के आपसी संबंध भी काफी खराब रहे हैं. 2008 में स्वाति ने पति के खिलाफ मारपीट की शिकायत की थी. उस वक्त नौबत तलाक तक पहुंच गई थी, लेकिन फिलहाल दोनों ओर से पिछले कुछ समय से सुलह की कोशिशें चल रही है. स्वाति सिंह आज भी अपने मायके में रहती हैं जबकि दयाशंकर सिंह अपनी मां के साथ. इस मामले में दोनों परिवार फिलहाल कुछ नहीं बोल रहे, लेकिन अब स्वाति को इस मामले जबाब देना मुश्किल पड़ सकता है.

'आज तक' पर स्वाति सिंह की सफाई
स्वाति सिंह के खिलाफ घरेलू हिंसा मामला सामने आने के बाद स्वाति सिंह और उनके भाई पुनीत सिंह ने 'आज तक' पर अपनी सफाई दी. स्वाति ने कहा कि ये मामला 2005 का है जब वो प्रेग्नेंट होने की वजह से अपने मायके में रहती थी, तब वहां उनके भाई और भाभी के बीच झगड़ा होता रहता है जिसमें उनकी भाभी ने भाई और पूरे परिवार पर दहेज उत्पीड़न का केस दर्ज कराया था. स्वाति की मानें तो उस वक्त वो वहां रहती थी इसलिए पूरे परिवार के साथ उनका नाम भी केस में डाल दिया था. लेकिन बाद में सुनवाई के दौरान उनका नाम हटा दिया गया, इसलिए अब उनपर कोई मामला दर्ज नहीं है.

पति-पत्नी के बीच खटास से स्वाति का इनकार
इसके अलावा अपने पति दयाशंकर सिंह के साथ अनबन और तलाक की आई नौबत पर भी सफाई देते हुए स्वाति ने कहा कि दोनों के बीच अनबन थी, लेकिन ये वैसे ही था जैसे पति-पत्नी के बीच होता है, लेकिन दोनों में कुछ महीने पहले सुलह हो चुकी है और अब सब ठीक है. वहीं स्वाति के भाई पुनीत ने कहा कि पत्नी से अदालती लड़ाई चल रही है और अबतक मामला नहीं सुलझा है.

बीजेपी ने बताया निजी मामला
लखनऊ एसपी के मुताबिक ये मामला फिलहाल उनके संज्ञान में नहीं है. चूंकि मामला करीब 11 साल पुराना है इसलिए पूरी पड़ताल के बाद ही कोई प्रतिक्रिया दी जा सकती है. बीजेपी इसे दयाशंकर सिंह का पारिवारिक और निजी मामला बता रही है लेकिन उत्पीड़न के आरोपों के बाद भी बीजेपी फिलहाल स्वाति सिंह के साथ मजबूती से खड़ी नज़र आ रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें