scorecardresearch
 

यूपी में तेज होगा टीकाकरण अभियान, गरीब तबके पर फोकस, ऑक्सीजन प्लांट चलाने के लिए युवाओं को मिलेगी ट्रेनिंग!

उत्तर प्रदेश में गरीब तबके से जुड़े हुए लोगों को अलग योगी सरकार अलग से टीका लगवाएगी. वैक्सीनेशन अभियान तेज किया जाएगा, जिससे गरीबों तक वैक्सीन की पहुंच हो सके. वहीं सरकार मंगलवार से यूपी के 75 जिलों में 18 वर्ष की उम्र से ऊपर सभी लोगों का टीकाकरण शुरू होगा.

यूपी में अब तेज होगा टीकाकरण अभियान (तस्वीर-PTI) यूपी में अब तेज होगा टीकाकरण अभियान (तस्वीर-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • यूपी में अब सभी 18+ को लगेगी वैक्सीन
  • 15 जून से गरीब तबके लिए अलग से टीकाकरण
  • ऑक्सीजन प्लांट चालने के लिए युवाओं को ट्रेनिंग

उत्तर प्रदेश में कोरोना संकट पर नियंत्रण पाने के लिए टीकाकरण अभियान को तेज किया जाएगा. मंगलवार से यूपी के 75 जिलों में 18 वर्ष से ज्यादा उम्र के सभी लोगों का टीकाकरण कराया जाएगा. अब यूपी सरकार गरीबों के वैक्सीनेशन पर जोर देगी. राज्य सरकार की योजना के मुताबिक 15 जून से सभी 75 जिलों में गरीबों के लिए अलग अभियान चलाया जाएगा.

राज्य सरकार के टीकाकरण अभियान में गरीब तबके से जुड़े हुए लोगों को अलग से कोविड-19 का टीका लगवाया जाएगा. इस मिशन में दूध विक्रेता, सब्जी विक्रेता, ऑटो, टेंपो, रिक्शा चालक, ठेले, खोमचे और रेहड़ी पटरी वालों के टीकाकरण पर विशेष जोर दिया जाएगा. गरीब व्यापारियों का भी ध्यान रखा जाएगा.

कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए युवाओं को स्वास्थ्य विभाग में काम करने की स्पेशल ट्रेनिंग दी जाएगी. अस्पतालों और नए स्थापित होने वाले ऑक्सीजन प्लांट में काम करने के लिए युवाओं को ट्रेन किया जाएगा. यह जिम्मेदारी प्रदेश के व्यावसायिक शिक्षा और कौशल विभाग ने संभाली है.

कोरोना: दूसरी डोज में अलग वैक्सीन लग भी जाए तो कोई दिक्कत नहीं: स्वास्थ्य मंत्रालय

युवाओं को हेल्थ सेक्टर में काम करने के लिए मिलेगी ट्रेनिंग

कोरोना महामारी और तीसरी लहर को देखते हुए कौशल विभाग ने 1 जून से ही स्वास्थ्य से संबंधित क्षेत्रों में प्रशिक्षण दिए जाने का कार्यक्रम तय किया है. इसमें कम्युनिटी हेल्थ सेंटर और प्राइमरी हेल्थ केयर में काम करने वाले लोगों को भी प्रशिक्षित किया जाएगा. प्रशिक्षण के लिए जिलों को अलग-अलग लक्ष्य दिए गए हैं.

हर जिले से शामिल होंगे 20 लोग

युवाओं को पहले रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया से गुजरना होगा. स्वास्थ्य सेवा से जुड़ी ट्रेनिंग मिलने के बाद ही युवाओं को लोगों के इलाज के लिए भेजा जाएगा. ऑक्सीजन प्लांट में काम करने के लिए हर जिले से 20-20 लोगों को ट्रेनिंग दी जाएगी. इस ट्रेनिंग की मंडलवार समीक्षा भी की जाएगी.

यह भी पढ़ें-
कोरोना की वैक्सीन लगवाने से मौत का खतरा? नोबेल विजेता के वायरल मैसेज की ये है सच्चाई

UP: इटावा में वैक्सीन सर्टिफिकेट के बिना नहीं मिलेगी शराब, दुकानों पर लगे पोस्टर

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×