scorecardresearch
 

मुरादाबाद: बवाल से एक दिन पहले मिले थे अनीसुर्रहमार सैफी और बीजेपी नेता सर्वेश कुमार

मुरादाबाद के कांठ में बवाल के लिए इलाके के एसएसपी धर्मवीर सिन्हा ने सीधे तौर पर बीजेपी नेता सर्वेश कुमार को जिम्मेदार ठहराया है. हिंसा से एक दिन पहले कांठ के विधायक अनीसुर्रहमार सैफी से बीजेपी सांसद सर्वेश कुमार ने लाउडस्पीकर लगाने के मसले पर मुलाकात की थी. दोनों नेताओं के बीच ये बैठक बेनतीजा रही थी.

धर्मवीर, एसएसपी, मुरादाबाद धर्मवीर, एसएसपी, मुरादाबाद

मुरादाबाद के कांठ में बवाल के लिए इलाके के एसएसपी धर्मवीर सिन्हा ने सीधे तौर पर बीजेपी नेता सर्वेश कुमार को जिम्मेदार ठहराया है. हिंसा से एक दिन पहले कांठ के विधायक अनीसुर्रहमार सैफी से बीजेपी सांसद सर्वेश कुमार ने लाउडस्पीकर लगाने के मसले पर मुलाकात की थी. दोनों नेताओं के बीच ये बैठक बेनतीजा रही थी.

बैठक के बेनतीजा रहने के बाद अगले ही दिन कांठ में बवाल हो गया. मुरादाबाद में हिंसा के लिए एसएसपी ने बीजेपी नेता सर्वेश सिंह को जिम्मेदार ठहराया है. एसएसपी का कहना है कि बीजेपी ने उपचुनाव के चलते इलाके में अमन चैन का गला घोंटने की साजिश रची.

एसएसपी धर्मवीर सिन्हा ने कहा कि मुरादाबाद से बीजेपी सांसद सर्वेश सिंह ने 16 जून को जबरन माइक लगवाया. इससे तनाव हुआ. दोनों समुदायों को बुलाकर समझाने की भी कोशिश की गई. लेकिन सर्वेश के समर्थकों ने समझौते से साफ मना कर दिया. माइक उतरवाने के बाद महापंचायत बुलाई गई. इसके बाद ही बवाल मचा. गांव में कोई टकराव नहीं होता, नेता लोगों को भड़का रहे हैं. अब तक इस मामले में 62 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में मुरादाबाद के कांठ में करीब एक हफ्ते पहले धार्मिक स्थल से लाउडस्पीकर उतारे जाने को लेकर बवाल हो गया था. मंदिर से लाउडस्पीकर उतारने और दलित महिलाओं पर लाठीचार्ज के मुद्दे पर नौ दिनों से सुलग रहे कांठ में जमकर पथराव और हवाई फायरिंग हुई. इसमें डीएम भी जख्मी हो गए.

पुलिस ने विधायक संगीत सोम समेत बीजेपी सांसदों और नेताओं को जहां-तहां गिरफ्तार कर हिंदू महापंचायत तो नहीं होने दी, लेकिन इससे भड़की बेकाबू भीड़ ने हावड़ा-हरिद्वार एक्सप्रेस समेत दो ट्रेनों को रोककर कांठ में रेलवे ट्रैक पर कब्जा कर लिया.

ट्रैक खाली कराने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे और करीब चार सौ राउंड हवाई फायरिंग भी की. इससे लोग भडक़ गए और जबर्दस्त पथराव कर फोर्स को खदेड़ दिया. पुलिस और लोगों में तीन घंटे तक संघर्ष हुआ. ट्रैक को असुरक्षित मानते हुए हरिद्वार रूट पर रेल यातायात रोक बाधित रही.देर शाम कांठ के पास पेली विश्नोई में प्रदर्शनकारियों ने ट्रैक पर फिर से कब्जा जमा लिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें