scorecardresearch
 

नाकाम हुआ आसाराम का मंसूबा

रेप के आरोप में फंसे आसाराम जेल में रह कर भी पीड़ि‍त छात्रा और उसके परिजनों की घेराबंदी का कोई मौका नहीं छोड़ रहे हैं. अपने समर्थकों के बूते आसाराम ऐसी ही एक योजना को अंजाम देने की कोशिश में जुटे थे. हालांकि, शाहजहांपुर प्रशासन ने आसाराम के मंसूबे पर पानी फेर दिया है.

आसाराम आसाराम

रेप के आरोप में फंसे आसाराम जेल में रह कर भी पीड़ि‍त छात्रा और उसके परिजनों की घेराबंदी का कोई मौका नहीं छोड़ रहे हैं. अपने समर्थकों के बूते आसाराम ऐसी ही एक योजना को अंजाम देने की कोशिश में जुटे थे. हालांकि, शाहजहांपुर प्रशासन ने आसाराम के मंसूबे पर पानी फेर दिया है. प्रशासन ने आसाराम के समर्थन में रविवार को आयोजित होने वाले धर्म रक्षा मंच और संत सम्मेलन पर रोक लगा दी है.

आसाराम के समर्थकों ने पीड़ि‍ता और उसके परिवार को घेरने के लिए अब घर में ही 'चक्रव्यूह' रचा था. इसके लिए शाहजहांपुर में 16 फरवरी को धर्म रक्षा मंच और संत सम्मेलन का आयोजन किया गया था. बापू के कट्टर समर्थक और संत सभा के प्रमुख स्वामी चक्रपाणि जी महराज को कार्यक्रम की कमान सौंपी गई थी. इसमें आसाराम के अन्‍य समर्थकों के साथ अभिनेता मुकेश खन्‍ना भी शामिल होने वाले थे. पीड़ि‍ता के परिवार ने आरोप लगाया कि इस कार्यक्रम का मकसद आसाराम को निर्दोष बताकर उनका मनोबल तोड़ना है. आरोप लगे कि आयोजक इसी बहाने आसाराम के पक्ष में माहौल भी बनाएंगे.

गौरतलब है कि जोधपुर के मणाई आश्रम में 15 अगस्त की रात छात्रा से कथित रेप हुआ था. 31 अगस्त की रात आसाराम इंदौर से गिरफ्तार हुए. छह माह बाद आसाराम के समर्थकों ने शाहजहांपुर में सम्मेलन का निर्णय लिया. हालांकि, मुकदमा दर्ज होने के तत्काल बाद भी सुरेशानंद समेत सैकड़ों समर्थकों ने शाहजहांपुर में आसाराम के पक्ष में माहौल बनाने की कोशिश थी. आसाराम समर्थित धर्म रक्षा मंच के बैनर तले पिछले महीने जोधपुर में भी धर्म रक्षा संत सम्मेलन आयोजित हुआ था. इस दौरान समर्थकों ने आसाराम को जमानत नहीं मिलने पर जेल भरो आंदोलन की भी धमकी दी थी. यहां भी मुकेश खन्‍ना, चक्रपाणि, घनश्यामानंद समेत संतों ने उपस्थिति दर्ज कराई थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें