scorecardresearch
 

आसाराम जज से बोले- साहब ये मेरा अंतिम प्रणाम, थक गया हूं आते-आते

प्रवचन करने वाले आसाराम और चार अन्य ने एक नाबालिग के यौन उत्पीड़न के मामले में जोधपुर जिला और सत्र अदालत द्वारा पढ़े गए आरोपों पर खुद को बेगुनाह कहा.

आसाराम आसाराम

प्रवचन करने वाले आसाराम और चार अन्य ने एक नाबालिग के यौन उत्पीड़न के मामले में जोधपुर जिला और सत्र अदालत द्वारा पढ़े गए आरोपों पर खुद को बेगुनाह कहा.

एक हिंदी अबखार में छपी रिपोर्ट के मुताबिक आसाराम ने कोर्ट में अपने इलाज को लेकर असंतोष जताया. आरोप सुनाते समय उनके पिता का नाम पूछा गया तो आसाराम ने कहा कि वे अब नहीं हैं. अपनी उम्र भी नहीं बताई. आसाराम कोर्ट पहुंचते ही जज से बोले कि साहब मेरा यह अंतिम प्रणाम हो सकता है. मैं अब यहां आते-आते थक गया हूं.

आसाराम और चार सह आरोपियों ने अपने खिलाफ लगाए आरोपों को खारिज कर दिया और मुकदमे का रास्ता चुना, जिसके बाद न्यायाधीश मनोज कुमार व्यास ने सुनवाई 17 फरवरी तक के लिए स्थगित कर दी. आरोपों को सुनने के बाद आसाराम अदालत में उदास हो गए, लेकिन जेल लौटते समय बस में सवार होने के दौरान उन्होंने कहा कि सब कुछ ठीक हो जाएगा.

शिवा और शिल्पी समेत चार अन्य आरोपी अदालत में पेश हुए, जिन्हें जमानत दी जा चुकी है. अदालत ने आसाराम के खिलाफ बलात्कार, आपराधिक षड्यंत्र और अन्य अपराधों के मामले में शुक्रवार को आरोप तय किए थे.

इस बीच आसाराम के वकील ने अदालत में आवेदन करके दिल्ली पुलिस द्वारा दर्ज पीडि़ता के बयानों को उपलब्ध कराने के लिए कहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें