scorecardresearch
 

यूपी PF घोटाला: अखिलेश बोले- योगी सरकार ने दिया DHFL को पैसा, सिटिंग जज से हो जांच

उत्तर प्रदेश में बिजली विभाग के कर्मचारियों के जीपीएफ और सीपीएफ खातों में जमा 2,268 करोड़ रुपये से ज्यादा की रकम दीवान हाउसिंग फाइनेंस कंपनी (डीएचएफएल) में फंसने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मंगलवार को योगी सरकार पर निशाना साधा.

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव

  • डीएचएफएल को कब भुगतान हुआ वो एफआईआर की कॉपी में है
  • सपा सरकार के समय डीएचएफएल को कोई भुगतान नहीं हुआ

उत्तर प्रदेश में बिजली विभाग के कर्मचारियों के जीपीएफ और सीपीएफ खातों में जमा 2,268 करोड़ रुपये से ज्यादा की रकम दीवान हाउसिंग फाइनेंस कंपनी (डीएचएफएल) में फंसने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मंगलवार को योगी सरकार पर निशाना साधा.

अखिलेश यादव ने कहा कि यूपी सरकार डर रही है और इसीलिए वह सच्चाई को छिपा रही है. बीजेपी के सत्ता में आने के बाद बिजली कर्मचारियों के ईपीएफ का पैसे को डीएचएफएल में निवेश किया गया. उससे पहले ईपीएफ राशि को डीएचएफएल में निवेश नहीं किया गया था.

उन्होंने कहा, 'बिजली विभाग महत्वपूर्ण विभाग है. कर्मचारियों ने मेहनत करके विभाग को खड़ा किया है.  उसमें इतना बड़ा घोटाला हुआ है. डीएचएफएल को कब भुगतान हुआ वो एफआईआर की कॉपी में है. उस समय यूपी में सपा सरकार नहीं थी. हमारी सरकार के समय डीएचएफएल को कोई भुगतान नहीं हुआ.'

जांच की मांग

सपा प्रमुख ने इस मामले में सुप्रीम कोर्ट या हाई कोर्ट के जज की निगरानी में जांच कराने की मांग की. अखिलेश यादव ने कहा कि हम मांग करते हैं कि सुप्रीम कोर्ट या हाई के जज की निगरानी में इस मामले की जांच की जाए.

अखिलेश यादव ने कहा कि सरकार घबराई हुई है. सच्चाई छिपा रही है. बिजली विभाग में हुए घोटाले के लिए योगी आदित्यनाथ जिम्मेदार हैं. समाजवादी पार्टी सिटिंग जज से जांच कराने की मांग करती है. मुख्यमंत्री को इस्तीफा देना चाहिए. उन्होंने कहा कि जिन अफसरों पर आरोप हैं वो अभी सीट पर बैठे हुए हैं.

ऊर्जा मंत्री को हटाना चाहते हैं CM

सपा प्रमुख ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस्तीफा दें. इतना कमजोर मुख्यमंत्री नहीं देखा. ऊर्जा मंत्री को हटाना चाहते हैं मगर नहीं हटा पा रहे हैं. सीएम मेदांता हॉस्पिटल का उद्घाटन करने जा रहे हैं उससे पहले उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए. रातोरात सीबीआई जांच की सिफारिश करना बताता है कि सरकार को विपक्ष के सवाल पूछने का डर है.

बहरहाल, अखिलेश यादव ने ऐसे समय योगी सराकर पर निशाना साधा है जब इस मामले में मंगलवार को ईओडब्ल्यू ने पूर्व एमडी एपी मिश्रा को हिरासत में लिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें