scorecardresearch
 

अखिलेश बोले- चाचा शिवपाल से हुई बात, अधिवेशन के लिए उन्होंने दिया आशीर्वाद

अखिलेश ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा, "किसान के साथ धोखा हुआ, नौजवान को नौकरी नहीं, जानबूझकर मुख्य मुद्दों से ध्यान भटकाया जा रहा है."

अखिलेश यादव (फाइल फोटो) अखिलेश यादव (फाइल फोटो)

गुरुवार को आगरा में होने वाले समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अधिवेशन में शामिल होने के लिए ताज नगरी पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने गुरुवार को एक प्रेस कांफ्रेस में कहा, "मैंने नेताजी से आशीर्वाद मांगा है, मैं चाहता हूं वो आगरा आएं."

यादव परिवार पर बोलते हुए अखिलेश अपने चाचा शिवपाल यादव के प्रति काफी नरम नजर आए. उन्होंने कहा, "मेरी चाचा शिवपाल से बात हुई है. राष्ट्रीय अधिवेशन के लिए उन्होंने आशीर्वाद दिया है." वहीं अधिवेशन में मुलायम सिंह के आने पर उन्होंने कहा, "नेताजी को अधिवेशन में बुलाया है. मैं खुद उन्हें निमंत्रण देकर आया हूं."

अपनी प्रेस कांफ्रेंस में अखिलेश ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा, "किसान के साथ धोखा हुआ, नौजवान को नौकरी नहीं, जानबूझकर मुख्य मुद्दों से ध्यान भटकाया जा रहा है. इन लोगों ने गाय और गोबर पर भी वोट मांगा था, क्रबिस्तान और श्मशान पर भी वोट मांगा था कहा था अच्छे दिन आ जाएंगे कम से कम वो हकीकत सामने कब आएगी ये तो उनको, बीजेपी को बताना चाहिए."

योगी सरकार पर निशाना साधते हुए अखिलेश ने कहा, "यूपी की सरकार का जो बजट है, मैंने सदन में भी कहा था कि विकास को रोकने वाला बजट है, पूरा का पूरा यूपी का विकास रुक गया है. न पुल बन रहा है, न सड़क, न बिजली बेहतर हुई है, स्वास्थ्य सेवाएं ठप हुई हैं, सरकार कमियां छुपाने के लिए जांच के नाम पर जांच बैठा रही है."

गोरखपुर में हुई बच्चों की मौत का मामला उठाते हुए उन्होंने कहा, "सरकार ऑक्सीजन की कमी स्वीकार नहीं कर रही है, जहां बच्चों की जान चली जाए, नौजवानों कौ नोकरी न मिले और विकास ठप हो जाए तो देश का विकास भी रुकता नजर आएगा. हमारा राष्ट्रीय सम्मेलन आगरा में होने जा रहा है. राजनीतकि मुद्दों पर बातचीत होगी, पार्टी इनपर निर्णय लेगी. विस्तार पर विचार विमर्श होगा."

ताजमहल के मुद्दे पर योगी सरकार को घेरते हुए अखिलेश ने कहा, "ताजमहल उनके लिए कोई बड़ी चीज न हो लेकिन ताजमहल से हजारों लोगों की रोजी रोटी जुड़ी है. ये भारत की पहचान भी है. यहां कारोबार-रोजगार मे हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई की एकता दिखाई देती है. इसीलिए जानबूझकर बीजेपी ऐसे मुद्दे उठा रही है. आगरा ने जिन विधायकों को जिताया है उनसे पूछो कि ताजमहल अच्छा है या खराब है."

उन्होंने आगे कहा, "फेसबुक-वॉट्सऐप पर आज सबसे ज्यादा निगेटिव सेंटीमेंट उन्हीं लोगों के खिलाफ हैं जो डिजिटल इंडिया की बात करते हैं. इन्हीं लोगों ने जहर फैला-फैलाकर चुनाव जीता था लेकिन आज ये खुद निशाने पर हैं. हमारी पार्टी डिजिटल मामलों मे सबसे आगे थी. हमने लैपटॉप बांटे लेकिन झूठ फैलाने में हम उनके सामने नहीं ठहर पाए. अगले चुनाव में वो फिर आपको कोई अफीम पकड़ा देंगे और आप बहक जाएंगे."

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें