scorecardresearch
 

पिघल रही है पिता-पुत्र के बीच रिश्तों पर जमी बर्फ, अखिलेश ने की मुलायम से मुलाकात

बाप बेटे की ये मुलाकात करीब 25 मिनट चली, जिसमें दोनों तरफ से गिले-शिकवे दूर करने की कोशिश हुई. सूत्रों के मुताबिक मुलायम अखिलेश के आने से भावुक हो गए, उनका गला रुंध गया. काफी देर तक दोनों चुप रहे. बातचीत की शुरुआत अखिलेश यादव ने की.

X
अखिलेश यादव-मुलायम सिंह यादव अखिलेश यादव-मुलायम सिंह यादव

चुनाव हारने के बाद पहली बार अखिलेश यादव अपने पिता मुलायम सिंह यादव से मिलने उनके घर पंहुचे. हालांकि विक्रमादित्य मार्ग पर दोनों के बंगले के बीच सिर्फ एक दीवार का फासला है, लेकिन चुनाव हारने के छह महीने बाद ये फासला तब पाटा जा सका जब पिछले दिनों मुलायम ने शिवपाल की अलग पार्टी बनाने की स्क्रिप्ट पढ़ने से मना कर दिया.

बाप बेटे की ये मुलाकात करीब 25 मिनट चली, जिसमें दोनों तरफ से गिले-शिकवे दूर करने की कोशिश हुई. सूत्रों के मुताबिक मुलायम अखिलेश के आने से भावुक हो गए, उनका गला रुंध गया. काफी देर तक दोनों चुप रहे. बातचीत की शुरुआत अखिलेश यादव ने की. माना जा रहा है अखिलेश यादव ने उन्हें 5 अक्टूबर को आगरा में होने वाले राष्ट्रीय अधिवेशन में बतौर संरक्षक आने का निमंत्रण दिया. सूत्रों की माने तो मुलायम ने राष्ट्रीय अधिवेशन में जाने की हामी भर दी है. अगर मुलायम सिंह राष्ट्रीय अधिवेशन का रुख करते है तो शिवपाल यादव के लिए अब सभी रास्ते बंद हो जाएंगे.

पिता पुत्र के बीच रिश्तों पर जमीं बर्फ पिघलने की शुरुआत लोहिया ट्रस्ट में हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस से ही शुरू हो गई थी. इसमें मुलायम सिंह यादव ने शिवपाल के नई पार्टी बनाने की कोशिशों को एक झटके में पलीता लगा दिया था. हालांकि पिता से अध्यक्ष पद छीनने की वजह से मुलायम ने अखिलेश को जी भर कर कोसा था, यहां तक कहा था कि जो अपने बाप का नहीं हुआ वो किसी का क्या होगा.

कोसे जाने के बाद भी अखिलेश ने मुलायम सिंह यादव के जिंदाबाद का नारा बुलंद किया था और ट्विटर पर नेताजी और समाजवादी पार्टी जिंदाबाद लिखा. उसी वक्त दर्जनों अखिलेश समर्थक युवा नेता मुलायम से मिलने जा पंहुचे थे और उनके साथ फोटो खिंचवाई थी.

मुलायम सिंह के इस नए यू टर्न को राजनीतिक हलकों में बेहद ही अहम माना जा रहा है. अगर मुलायम अखिलेश के साथ मंच पर खड़े हो गए तो समाजवादी पार्टी फिर से उत्साह से लबरेज हो जाएगी और उसे वो संजीवनी मिलेगी जिसकी उसे 2019 चुनाव में सबसे ज्यादा जरूरत होगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें