scorecardresearch
 

अखिलेश का योगी पर पलटवार- जो भूल चुके अपना संकल्प-पत्र, श्वेत-पत्र उनका बहाना है!

उत्तर प्रदेश सरकार के 6 महीने पूरे होने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने श्वेत पत्र जारी किया. जिसमें पूर्व सरकार की अनियमितता और अपने 6 महीने के कार्यकाल की उपलब्धियां गिनाई गई.  

योगी आदित्यनाथ योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश सरकार के 6 महीने पूरे होने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने श्वेत पत्र जारी किया. जिसमें पूर्व सरकार की अनियमितता और अपने 6 महीने के कार्यकाल की उपलब्धियां गिनाई गई.  जिसका जवाब अखिलेश यादव ने ट्वीट कर दिया है. उन्होंने यूपी सरकार पर वादा करने मुकरने का आरोप लगाया है.

अपने ट्वीट में अखिलेश यादव ने लिखा, 'उत्तर प्रदेश की मौजूदा सरकार ने किसानों से कर्जमाफी का वादा किया था. लेकिन वो वादा अब सरकार भूल चुकी है. सूबे के किसान ठगा महसूस कर रहे हैं. कर्जमाफी के नाम पर एक किसान को 0.01 रुपये मदद दी गई है.' इसके लिए अखिलेश ने बाकायदा उस किसान का पूरा डिटेल अपने ट्विटर अकाउंट पर डाल दिया है.    

इससे पहले सोमवार को यूपी विधान परिषद की सदस्यता लेने के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने सोमवार को अखिलेश सरकार पर श्वेत पत्र प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से जनता के सामने रखा. योगी ने कहा कि पिछली सरकार के बहुत से कारनामे हैं.

योगी ने कहा कि जनता को पिछली सरकार के काम जानने का हक है. श्वेत पत्र का लाया जाना जनता के प्रति जवाबदेही का उदाहरण है. पिछली सरकार के दौरान सार्वजनिक संस्थाओं पर कर्ज बढ़ा है. प्रदेश के अंदर जो पीएसयू हैं वो लगातार बढ़ते गए.

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के पीएसयू बंद हो चुके हैं. प्रदेश के सार्वजनिक उपक्रमों पर 91000 करोड़ का घाटा है. इससे साफ जाहिर है कि पिछली सरकार जन विरोधी, भ्रष्टाचार युक्त और गैर जिम्मेदार थी. प्रदेश की विकास योजनाओं को रोका गया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें