scorecardresearch
 

पाकिस्तान पर कूटनीतिक हमला करने को तैयार है भारत, वापस ले सकता है मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा

केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री अर्जुन मेघवाल ने इंडिया टुडे-आजतक से बातचीत में पाकिस्तान को मिलने वाले मोस्ट फेवर्ड नेशन (एमएफएन) का दर्जा खत्म करने का इशारा किया है. इसके अलावा भारत सिंधु जल संधि भी खत्म कर सकता है.

X
दुनिया के मोर्चे पर भी पाक हो जाएगा अलग-थलग दुनिया के मोर्चे पर भी पाक हो जाएगा अलग-थलग

भारत पाकिस्तान पर डबल कूटनीतिक अटैक की तैयारी कर रहा है. केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री अर्जुन मेघवाल ने 'इंडिया टुडे-आज तक' से बातचीत में पाकिस्तान को मिलने वाले मोस्ट फेवर्ड नेशन (एमएफएन) का दर्जा खत्म करने का इशारा किया है. इसके अलावा भारत सिंधु जल संधि भी खत्म कर सकता है.

उरी अटैक के बाद भारत में लगातार पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई की मांग हो रही है. ऐसे में भारत सरकार के ये फैसले पाकिस्तान की मुश्किल बढ़ा सकते हैं. दोनों ही फैसलों से पाकिस्तान की आर्थिक और सामाजिक स्थिति पर बुरा असर पड़ेगा. अर्जुन मेघवाल ने कहा कि सरकार के पास एमएफएन पर विचार करने का प्रस्ताव पहले से है.

दुनिया के मोर्चे पर भी पाक हो जाएगा अलग-थलग
इससे पहले भी सरकार पाकिस्तान को अलग-थलग करने का ऐलान कर चुकी है. मेघवाल ने कहा कि भारत व्यापार संबंधों से अधिक तवज्जो देश की सुरक्षा को देता है. उन्होंने कहा कि जब पाकिस्तान को मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा दिया गया, उस वक्त स्थिति अलग थी, लेकिन अब हालात बदल चुके हैं. रिपोर्ट्स के मुताबिक, ये पहली बार है जब भारत पाक के एफएफएन स्टेट्स को रिव्यू कर रहा है. मेघवाल ने ये भी कहा है कि भारत को पाकिस्तान दुनिया के मोर्चे पर भी अलग-थलग करने के लिए काम कर रहा है. इससे पहले सुब्रमण्यम स्वामी सहित बीजेपी के कई नेता और रिटायर्ड सैनिक एमएफएन का दर्जा वापस लेने के लिए सरकार से अपील कर चुके हैं.

क्या है एमएफएन स्टेट्स?
वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन और इंटरनेशनल ट्रेड नियमों को लेकर एमएफए स्टेट्स दिया जाता है. एमएफएन स्टेट्स दिए जाने पर दूसरे देश इस बात को लेकर आश्वस्त रहता है कि उसे व्यापार में नुकसान नहीं पहुंचाया जाएगा. भारत ने पाकिस्तान को 1996 में एमएफएन का दर्जा दिया था. इसकी वजह से पाकिस्तान को अधिक आयात कोटा और कम ट्रेड टैरिफ मिलता है. हालांकि, बदले में पाकिस्तान ने आश्वासन देने के बावजूद भारत को अब तक एमएफएन दर्जा नहीं दिया है.

LoC पर फौज बढ़ा रहा है भारत
इधर, उरी हमले के बाद भारत लाइन ऑफ कंट्रोल (एलओसी) पर सुरक्षा बढ़ा रहा है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आर्मी युद्ध की तरह तैयारी कर रही है. 778 किलोमीटर लंबी एलओसी पर भारतीय फौज जवानों को नए तरीके से तैनात कर रही है. हथियार, तेल और खाने के सामान भी जमा किए जा रहे हैं. एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक, आर्मी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कार्रवाई को लेकर कई प्रजेंटेशन भी दिखाए हैं.

डाटा स्कैन करके आतंकी को पहचाने पाक- भारत
भारत ने कहा है कि पाकिस्तान को अपने डाटाबेस को स्कैन करना चाहिए और उरी अटैक के आतंकियों की पहचान करनी चाहिए. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरुप ने कहा कि भारत इसके लिए पाकिस्तान को फिंगर प्रिंट्स और डीएनए सैंपल देने को तैयार है. उन्होंने ये भी कहा कि भारत हमेशा जांच में सहयोग करता है और पठानकोट हमले के वक्त आईएसआई अधिकारियों को भी भारत आने की अनुमति दी गई थी. विदेश सचिव एस जयशंकर और पाकिस्तानी हाई कमिश्नर अब्दुल बासित के बीच हुई मीटिंग का हवाला देते हुए विकास स्वरुप ने कहा कि बार-बार हो रहे घुसपैठ की कोशिश को तब तक बंद नहीं किया जा सकता, जब तक पाक मदद न करे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें