scorecardresearch
 

सलमान खान के मुंह से नहीं आ रही थी शराब की बदबू: चश्‍मदीद

सलमान खान को साल 2002 की दुघर्टना केस की सुनवाई पर मंगलवार को थोड़ी राहत मिली. दुघर्टना के चश्‍मदीद गवाह ने कहा, सलमान से शराब की बदबू नहीं आ रही थी.

X
सलमान खान सलमान खान

सलमान खान को साल 2002 की दुघर्टना केस की सुनवाई पर मंगलवार को थोड़ी राहत मिली. दुघर्टना के चश्‍मदीद गवाह ने कहा, सलमान से शराब की बदबू नहीं आ रही थी.

सलमान खान को राहत देते हुए एक गवाह ने स्थानीय अदालत को बताया कि उसे ऐसा लगा था कि वर्ष 2002 में उपनगर बांद्रा में एक दुकान में अपनी कार घुसा देने के समय अभिनेता ने शराब नहीं पी रखी थी. गौरतलब है कि इस घटना में एक व्यक्ति मारा गया था और चार अन्य घायल हो गए थे जो बाहर सोए हुए थे.

घटनास्थल के समीप रहने वाले और सलमान खान के दोस्त 63 वर्षीय फ्रांसिस फर्नांडिस ने सत्र न्यायाधीश डी डब्ल्यू देशपांडे को बताया कि वह लोगों के चिल्लाने की आवाजें सुनकर घटनास्थल पर गए थे और देखा कि डंडे और पत्थर हाथों में लिए भीड़ ने सलमान को घेर रखा था. फर्नांडिस ने कहा कि वह सलमान को उनके बचपन के दिनों से जानते हैं और उसी इलाके में रहते हैं जहां सलमान रहते हैं और जहां घटना हुई थी.

सलमान को राहत देते हुए गवाह ने कहा, सलमान नशे में नहीं दिख रहे थे, क्योंकि जब मैं उनके पास गया तो उनसे शराब की बू नहीं आ रही थी. वह सामान्य दिख रहे थे और सीधे चल रहे थे. सलमान अदालत कक्ष में खड़े गवाही को सुन रहे थे. फर्नांडिस ने सलमान के वकील श्रीकांत शिवाडे द्वारा जिरह के दौरान पूछे गए सवालों के जवाब में यह बात कही.

अभियोजन पक्ष का मामला यह है कि दुर्घटना के समय अभिनेता शराब के नशे में था. पुलिस के अनुसार, सलमान ने कथित रूप से जुहू के जेडब्ल्यू मैरियट होटल में अपने दोस्तों के साथ शराब के कुछ पैग लिए थे. उसी दिन 28 सितंबर 2002 को अमेरिकन बेकरी के सामने यह हादसा हुआ था. फर्नांडिस ने सरकारी वकील जगन्नाथ केंजराल्कर को बताया, 'मैं बचाओ, बचाओ की आवाजें सुनकर उठा और उस जगह गया जहां लोग लाठियां और पत्थर लिए खड़े थे. मैं सलमान के समीप गया. मुझे देखने के बाद, उन्होंने कहा, कमांडर मुझे बचा लीजिए.'

गवाह ने कहा कि वह सलमान को उनके घर की ओर ले गए. फर्नांडिस ने कहा कि उनकी पत्नी ने सलमान से उनकी कार में बैठकर घर जाने को कहा. सलमान इसके बाद उनकी कार में बैठकर घर चले गए. फर्नांडिस ने कहा कि वह दुर्घटनास्थल से सलमान को बाहर निकालने और उन्हें घर जाने की सलाह देने में सफल रहे.

एक अन्य सवाल के जवाब में गवाह ने कहा कि घटना के बाद भीड़ उग्र हो गई थी. लाठियों और पत्थरों से लैस भीड़ को देखकर मैंने महसूस किया कि सलमान की जिंदगी खतरे में है. पुलिस हालांकि उस समय तक नहीं आयी थी और वह 10:15 मिनट बाद आई. नेवी ब्ल्यू रंग की कमीज और जींस पहने सलमान खान अपने अंगरक्षक तथा दो बहनों अलवीरा और अर्पिता के साथ अदालत में आए थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें