scorecardresearch
 

8 हजार फीट की ऊंचाई से अचानक नीचे आया प्लेन, राहुल गांधी को लगा था- अब तो गए!

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने रविवार को दिल्ली में हुई जन आक्रोश रैली में एक कहानी सुनाई. राहुल ने बताया कि पिछले दिनों वो कर्नाटक के लिए रवाना हुए थे और अचानक लगा कि अब प्लेन दुर्घटनाग्रस्त हो जाएगा और जान नहीं बचने वाली है. राहुल की मानें तो प्लेन में वो अंदर से हिल गए थे.

X
राहुल गांधी
राहुल गांधी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने रविवार को दिल्ली में हुई जन आक्रोश रैली में एक कहानी सुनाई. राहुल ने बताया कि पिछले दिनों वो कर्नाटक के लिए रवाना हुए थे और अचानक लगा कि अब प्लेन दुर्घटनाग्रस्त हो जाएगा और जान नहीं बचने वाली है. राहुल की मानें तो प्लेन में वो अंदर से हिल गए थे.

दरअसल दिल्ली में आयोजित 'जन आक्रोश रैली' में भाषण देने के 5 मिनट के बाद राहुल दोबारा कार्यकर्ताओं को संबोधित करने पहुंचे. उन्होंने कहा कि इस बार वो देश के कोने-कोने से आए कार्यकर्ताओं को बताना चाहते हैं कि कैसे उन्हें तीन दिन पहले प्लेन यात्रा के दौरान लगा कि अब उनकी जान नहीं बचेगी और वो अंदर से हिल गए थे.

घबरा गए राहुल गांधी

राहुल गांधी ने कहा, 'मैं दो-तीन दिन पहले कर्नाटक जा रहा था, मैं प्लेन में सवार था. प्लेन अचानक 8 हजार फीट नीचे आ गया. मैं अंदर से हिल गया और लगा कि अब गाड़ी गई. तभी मुझे कैलाश मानसरोवर याद आया. अब मैं आपसे 10 से 15 दिन के लिए लीव चाहता हूं ताकि कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर जा सकूं.'

मानसरोवर यात्रा पर जाएंगे राहुल

राहुल ने इस प्लेन की घटना के बारे में पहले कहीं जिक्र नहीं किया था. गौरतलब है कि तीन दिन पहले राहुल गांधी कर्नाटक चुनाव पहुंचे थे. जिस दौरान प्लेन में उनको ये अनुभव हुआ था. अब राहुल गांधी ने कहा कि कर्नाटक चुनाव के बाद वो कैलाश मानसरोवर यात्रा पर जाएंगे. जिसमें 15 दिन का वक्त लगेगा. इस दौरान वो राजनीति से दूर रहेंगे.

अचानक प्लेन में आई थी तकनीकी गड़बड़ी

गौरतलब है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी गुरुवार को उस वक्त एक भयावक स्थिति में फंस गए जब उनके चार्टर्ड प्लेन में तकनीकी गड़बड़ियां सामने आ गई थीं. घटना उस समय हुई जब राहुल गांधी अपने कुछ सहयोगियों के साथ दिल्ली से कर्नाटक के रास्ते में थे. हालांकि समय रहते प्लेन को हुबली में सुरक्षित उतार लिया गया था. कांग्रेस के वरिष्ठ ने इस पूरे मामले की गंभीरता से जांच कराने की मांग की. वहीं डीजीसीए ने कहा कि ऑटो पायलट (मोड) में कोई गड़बड़ी थी और पायलट ने बाद में उसे मैनुअल (मोड) में डाला और विमान को सुरक्षित उतारा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें