scorecardresearch
 

करतारपुर कॉरिडोर पर सिद्धू बोले- PAK आर्मी चीफ को मेरी 'झप्पी' काम आई

सिखों के प्रथम गुरु नानकदेव ने करतारपुर को बसाया था, कहा जाता है कि उन्होंने अपने जीवन के अंतिम कुछ साल यहां पर ही व्यतीत किए थे. यहां पर एक गुरुद्वारा है, जिसे करतारपुर साहिब कहा जाता है. ये भारत-पाकिस्तान सीमा से चार किलोमीटर दूर है. अगस्त में सिद्धू के पाक दौरे के दौरान यह कॉरिडोर चर्चा में आया था.

X
नवजोत कौर सिद्धू (फाइल-फोटो/PTI) नवजोत कौर सिद्धू (फाइल-फोटो/PTI)

भारत के पाकिस्तान स्थित करतारपुर साहिब गुरुद्वारे के लिए स्पेशल कॉरिडोर बनाए जाने के ऐलान के बाद देश में इसके श्रेय को लेकर होड़ शुरू हो गई है. वहीं बीजेपी से कांग्रेस में शामिल हुए नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि उनका पाकिस्तानी सेना प्रमुख के गले लगना काम आ गया.

स्पेशल कॉरिडोर बनाए जाने के भारत सरकार के ऐलान के बाद पंजाब सरकार में मंत्री सिद्धू ने कहा कि यह पाकिस्तानी आर्मी चीफ जनरल कमर बाजवा के साथ गले मिलने का नतीजा है. हमारा नारा है 'बुरे दिन' जाने वाले हैं.

सिद्धू के अगस्त में इमरान खान के प्रधानमंत्री पद की शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेने के लिए पाकिस्तान जाने के बाद से ही भारतीय राजनीति में करतारपुर साहिब को लेकर चर्चा शुरू हुई. तब सिद्धू के पाक दौरे को लेकर काफी बवाल हुआ था.

इस महीने पाक शुरू करेगा कॉरिडोर

पाक से भारत लौटने के बाद सिद्धू ने दावा किया था कि इस दौरे के दौरान ही पाक सेना प्रमुख बाजवा ने उनसे कहा है कि पाक सरकार करतारपुर साहिब कॉरिडोर के लिए रास्ता खोल सकती है. हालांकि तब देश में उनकी 'झप्पी' को लेकर जमकर राजनीति शुरू हो गई थी.

पाकिस्तान इस महीने के अंत से ही कॉरिडोर बनाना शुरू कर देगा. पाकिस्तान के पीएम इमरान खान खुद इसकी शुरुआत करेंगे. हालांकि, इसकी तारीख तय नहीं हुई है. कॉरिडोर 2019 तक पूरा हो सकता है. पाकिस्तान सरकार की ओर से भारत सरकार के फैसले का स्वागत किया गया है.

केंद्र सरकार के ऐलान के बाद सिद्धू ने ट्वीट कर मोदी सरकार का आभार व्यक्त किया. उन्होंने लिखा कि इस फैसले से दोनों देशों के बीच शांति का संदेश जाएगा.

भारत-पाकिस्तान दोनों देशों की सरकारों ने ऐलान कर रखा है कि वे गुरु नानक के जीवन में बेहद खास करतारपुर के गुरुद्वारा जाने के लिए कॉरिडोर बनाएंगी. करतारतुर साहिब गुरुद्वारे को लेकर भारत सरकार ने गुरुवार को बड़ा ऐलान किया.

सरकार की ओर से कहा गया कि पंजाब के गुरदासपुर से लेकर अंतरराष्ट्रीय सीमा तक मोदी सरकार एक स्पेशल कॉरिडोर बनवाएगी जिससे करतारपुर साहिब जाने वाले सिख श्रद्धालुओं को काफी फायदा होगा. हालांकि, अभी केंद्र सरकार की ओर से सिर्फ इसका ऐलान ही किया गया था कि इसका श्रेय लेने के लिए राजनेताओं में बयानबाजी का दौर शुरू हो गया.

गुरु नानक देव ने बसाया करतारपुर

सिखों के प्रथम गुरु नानकदेव ने करतारपुर को बसाया था, कहा जाता है कि उन्होंने अपने जीवन के अंतिम कुछ साल यहां पर ही व्यतीत किए थे. यहां पर एक गुरुद्वारा है, जिसे करतारपुर साहिब कहा जाता है. ये भारत-पाकिस्तान सीमा से चार किलोमीटर दूर है.

हालांकि पंजाब के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल ने इस फैसले के बाद नवजोत सिंह सिद्धू पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने जो फैसला लिया है, वह ऐतिहासिक है. सिद्धू के बारे में उन्होंने कहा कि कौन सिद्धू, इस बारे में सिद्धू का कोई भी रोल नहीं है.

केंद्र के फैसले पर केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर ने भी ट्वीट करते हुए लिखा कि अकाली दल की अपील पर केंद्र सरकार ने जो करतारपुर साहिब कॉरिडोर बनाने का फैसला लिया है, उसके लिए वह मोदी सरकार का धन्यवाद देती हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें