scorecardresearch
 

हेराल्ड केस में सोनिया-राहुल को बिना शर्त बेल, सोनिया ने कहा- हम सरकार से डरने वाले नहीं

हाई प्रोफाइल नेशनल हेराल्ड केस में दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में सोनिया और राहुल गांधी शनिवार को पेश हुए और चंद मिनटों में ही जमानत लेकर बाहर भी आ गए. कोर्ट ने बिना किसी शर्त के उन्हें जमानत दे दी.

X
पटियाला हाउस कोर्ट के बाहर सोनिया गांधी और राहुल गांधी
पटियाला हाउस कोर्ट के बाहर सोनिया गांधी और राहुल गांधी

नेशनल हेराल्ड केस में शनिवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी को पटियाला हाउस कोर्ट से जमानत मिल गई. दोनों को 50-50 हजार के मुचलके पर जमानत दी गई. सोनिया के वकील कपिल सिब्बल ने बताया कि अगली सुनवाई 20 फरवरी को दोपहर 2 बजे होगी.

कांग्रेस का सरकार पर जोरदार हमला

अदालत के फैसले के बाद कांग्रेस मुख्यालय में पार्टी के तमाम नेता मीडिया से मुखातिब हुए. सोनिया गांधी ने कहा कि ये सरकार विपक्ष को फंसाने का काम कर रही है. ऐसे प्रयास लंबे समय से होते रहे हैं. लेकिन हम डरने वाले नहीं. सोनिया ने कहा कि सरकार विपक्ष को डराने के लिए एजेंसियों का गलत इस्तेमाल कर रही है.

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने सीधे प्रधानमंत्री मोदी का नाम लेते हुए कहा, 'मोदीजी झूठे आरोप लगाते हैं जिससे कि विपक्ष झुक जाए लेकिन मैं और कांग्रेस पार्टी नहीं झुकेगी. हम एक इंच भी पीछे नहीं जाएंगे.'

पूर्व पीएम डॉ मनमोहन सिंह भी मीडिया के सामने आए और कहा, 'कांग्रेस पार्टी राहुल जी और सोनिया जी के पीछे पूरी ताकत से खड़ी है. इस मसले पर पूरी पार्टी एकमत है'

कांग्रेस मुक्त भारत नहीं होने देंगे

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आजतक से कहा कि मोदी सरकार कांग्रेस मुक्त भारत की बात करती है हम ऐसा नहीं होने देंगे.

राहुल की जमानत प्रियंका ने ली
इससे पहले अदालत ने सभी नेताओं को जमानत दे दी. राहुल की जमानत उनकी बहन प्रियंका ने ली. वहीं, सोनिया गांधी का बेल बॉन्ड पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी ने भरा. बाकी पांचों आरोपियों के लिए भी दूसरे नेताओं ने बेल बॉन्ड भरा. किसी भी आरोपी की जमानत के लिए कोई शर्त नहीं लगाई गई है.

बीजेपी बोली- सेलिब्रेशन ऑफ करप्शन
सिब्बल ने बताया कि याचिकाकर्ता सुब्रमण्यम स्वामी ने जमानत का विरोध करते हुए मांग की थी कि आरोपियों के विदेश दौरे की इजाजत नहीं दी जानी चाहिए. इस पर शर्तें लागू करनी चाहिए, लेकिन जज ने यह मांग नहीं मानी. बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने इसे 'सेलिब्रेशन ऑफ करप्शन' करार दिया.

सोनिया के निर्देश के बावजूद कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन
सोनिया ने पार्टी नेताओं से किसी भी तरह का प्रदर्शन न करने को कहा है. उन्होंने कहा है कि इस मामले की सुनवाई के बीच उन्हें किसी भी तरह का ड्रामा नहीं चाहिए. बावजूद इसके 10 जनपथ के बाहर कांग्रेस कार्यकर्ताओं की भारी भीड़ जुट गई. बेंगलुरु में भी सोनिया और राहुल के समर्थन में 2000 कांग्रेस कार्यकर्ता फ्रीडम पार्क में जुट गए. मामले में बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने याचिका लगाई है.

 

सोनिया बोलीं- न्यायिक प्रक्रिया का सम्मान हो
सूत्रों के मुताबिक सोनिया ने कांग्रेस नेताओं को कहा है कि कोर्ट के बाहर कोई जुलूस या तमाशा न हो और न्यायिक प्रक्रिया का सम्मान किया जाए. अदालत जैसा निर्देश देगी, उसका पालन किया जाएगा. अगर कोर्ट जमानत लेने को कहे, तो ले ली जाएगी.

कहा- बदले की राजनीति का जवाब भी देंगे
सोनिया ने अपील की है कि मोदी के बदले की राजनीति का जवाब जनता के बीच जा कर दिया जाए. शनिवार को सोनिया और राहुल गांधी समेत पांचों आरोपी कोर्ट जाएंगे.

दुर्भावना से काम कर रहे हैं मोदीः कांग्रेस
कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि मोदी दुर्भावना से काम कर रहे हैं. स्वामी तो सिर्फ एक मोहरा हैं. हम न दबेंगे और न ही झुकेंगे. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अश्विनी कुमार ने बताया कि कोर्ट में सिर्फ वकील नेता ही जाएंगे. यह राजनीतिक बदला है. इस मामले को उठाने वाले स्वामी को सरकारी बंगला भी मिल गया है.

बीजेपी ने दिया यह जवाब
जवाब में केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि ये कोई स्वतंत्रता की लड़ाई लड़कर नहीं आ रहे. ये करप्शन का मामला है. यह मामला कानूनी है. न जाने इसे राजनीतिक रंग क्यों दिया जा रहा है. हर बात में नरेंद्र मोदी का नाम लेना ठीक नहीं. वहीं रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राहुल को झूठ बोलने में महारत हासिल है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें