scorecardresearch
 

सांत्वना यात्रा पर निकले नरेंद्र मोदी, कई जगह गए, गोपालगंज नहीं पहुंच पाए

बीजेपी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी पटना ब्लास्ट में मृतकों के परिजनों से मिलने गए, लेकिन मौसम के चलते उनका हेलीकॉप्टर गोपालगंज में लैंड नहीं कर पाया और उन्हें पटना लौटना पड़ा.

पीडि़तों के साथ नरेंद्र मोदी पीडि़तों के साथ नरेंद्र मोदी

बीजेपी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी पटना ब्लास्ट में मृतकों के परिजनों से मिलने गए, लेकिन मौसम के चलते उनका हेलीकॉप्टर गोपालगंज में लैंड नहीं कर पाया और उन्हें पटना लौटना पड़ा.

27 अक्टूबर को बीजेपी की हुंकार रैली के दौरान पटना शहर के गांधी मैदान में हुए धमाकों में मरे लोगों के परिजनों से मुलाकात करने के लिए बीती रात मोदी पुणे से पटना पहुंचे थे.

इस सांत्वना यात्रा के लिए गौरीचक थानांतर्गत अजीमचक गांव निवासी और धमाके में मरने वाले राजनारायण सिंह के घर जाने के लिए मोदी को सुबह 7 बजकर 10 मिनट पर निकलना था, लेकिन कोहरा छाए रहने के कारण वह जयप्रकाश नारायण हवाईअड्डा से 9 बजे रवाना हो सके.

पांच लाख का चेक, नौकरी दिलवाने का आश्वासन
अजीमचक गांव में सिंह के परिजनों को सांत्वना देने के बाद मोदी कैमूर जिले के रामपुर प्रखंड के निसिया गांव पहुंचे. वहां मोदी मृतक विकास कुमार सिंह (28) के परिजनों से मिले एवं उन्हें पांच लाख रुपये की सहायता राशि वाला चेक प्रदान किया.

कैमूर जिला मुख्यालय भभुआ से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, मृतक की पत्नी वीणा ने बताया कि नरेंद्र मोदी उन्हें सांत्वना देते हुए उसे नौकरी दिलवाने एवं उसके दोनों पुत्र की पढ़ाई का खर्च उठाने का आश्वासन दिया है.

सिलसिलेवार धमाके में मरने वाले गोपालगंज जिला के बरीधनेष गांव निवासी मुन्ना श्रीवास्तव के परिजनों से मुलाकात करने के लिए नरेंद्र मोदी कैमूर से करीब 11 बजे गोपालगंज जिला के लिए रवाना हुए, लेकिन घने कोहरे के कारण वहां उनका हेलीकॉप्टर नहीं उतर पाया, जिससे उन्हें वापस पटना लौटना पडा.

नरेंद्र मोदी के गोपालगंज से पटना लौटने पर उनके साथ इस सांत्वना यात्रा में शामिल बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने बताया कि घने कोहरा के कारण उनका हेलीकॉप्टर वहां नहीं उतर सका और मजबूरन हमें पटना लौटना पडा.

सुशील ने बताया कि गोपालगंज के बाद नरेंद्र मोदी को सुपौल जाना था, लेकिन वहां भी मौसम के ठीक नहीं होने के कारण वह वहां भी नहीं जा पाएंगे.

उन्होंने बताया कि पटना लौटे नरेंद्र मोदी ने हवाईअड्डे से ही मुन्ना श्रीवास्तव की पत्नी प्रिया श्रीवास्तव से फोन पर बातकर उन्हें सांत्वना दी. सुशील ने बताया कि मुन्ना की पत्नी गुजराती भाषा भी जानती है. इसलिए नरेंद्र मोदी जी ने उनसे गुजराती भाषा में बात की.

उन्होंने बताया कि इसी प्रकार से सुपौल नहीं जा पाने के कारण सिलसिलेवार धमाके में मरे वहां के सिमराही निवासी भरत रजक के पुत्र शंकर से नरेंद्र मोदी ने फोन पर बात और उन्हें सांत्वना दी.

पटना हवाई अड्डे पर कुछ देर रुकने के बाद नरेंद्र मोदी हेलीकॉप्टर के जरिए बेगुसराय जिला के लिए रवाना हुए और दोपहर करीब 1 बजकर 45 मिनट पर वहां पहुंचने पर धमाके में मरे खुदाबंद प्रखंड अंतर्गत बरियारपुर पश्चिम गांव जाकर बिंदेश्वरी चौधरी के परिजनों से मुलाकात की और परिवार को पांच लाख रुपये का चेक प्रदान किया.

नरेंद्र मोदी बेगूसराय से दोपहर करीब 2.15 बजे हेलीकॉप्टर के जरिए नालंदा जिला के लिए रवाना हुए थे और करीब ढाई बजे सरमेरा थाना अंतर्गत परनामा गांव पहुंचे और मृतक राजेश कुमार के घर जाकर उनके परिजनों से मुलाकात की और उन्हें पांच लाख रुपये का चेक प्रदान किया और परनामा गांव से हेलीकॉप्टर के जरिए मोदी करीब तीन बजे पटना हवाई अड्डा के लिए रवाना हो गए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें