scorecardresearch
 

सूरत रेप केस का आरोपी नारायण साईं गिरफ्तार, भेष बदल कर घूम रहा था आसाराम का बेटा

सूरत रेप केस के आरोपी नारायण साईं पुलिस की गिरफ्त में आ चुके हैं. नारायण साईं को बुधवार को मेडिकल जांच के लिए अंबेडकर अस्पताल ले जाया गया. अस्पताल से निकलते हुए नारायण साई ने कहा कि उसे फंसाया जा रहा है. जिसके बाद उसे कोर्ट में पेश किया जाएगा. इस बीच सूरत पुलिस दिल्ली पहुंच गई है और दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच से नारायण साईं की ट्रांजिट रिमांड की मांग कर रही है.

नारायण साई नारायण साई

सूरत रेप केस के आरोपी नारायण साईं पुलिस की गिरफ्त में आ चुके हैं. नारायण साईं को बुधवार को मेडिकल जांच के लिए अंबेडकर अस्पताल ले जाया गया. अस्पताल से निकलते हुए नारायण साई ने कहा कि उसे फंसाया जा रहा है. जिसके बाद उसे कोर्ट में पेश किया जाएगा. इस बीच सूरत पुलिस दिल्ली पहुंच गई है और दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच से नारायण साईं की ट्रांजिट रिमांड की मांग कर रही है.

दिल्ली पुलिस ने बताया कि नारायण साईं पूछताछ में जरा भी सहयोग नहीं कर रहा है. पुलिस के मुताबिक उससे जो भी सवाल किया जा रहा है वो बस हंस रहा है और सवालों का जवाब नहीं दे रहा है.

नारायण साईं के पास से पुलिस ने बरामद किए 2 लाख 61 हजार रुपये. नारायण साईं के साथी हनुमान के पास से मिले 13.5 हजार रुपये इसके अलावा 6 मोबाइल भी पुलिस ने बरामद किए.

नारायण साईं जिस गाड़ी इस्तेमाल कर रहा था वो नेहा दीवान नाम की महिला की है. नेहा दीवान अजय दीवान की पत्नी हैं और मेरठ की रहने वाली हैं. इस गाड़ी का रजिस्ट्रेशन 17 अक्टूबर 2013 का है. आसाराम के बेटे की गिरफ्तारी के विरोध में रोहिण कोर्ट के बाहर उसके प्रशंसकों ने प्रदर्शन भी किया.

करीब दो महीनों से पुलिस और आसाराम के बेटे नारायण साईं के बीच चल रही आंख मिचौली नारायण साईं की गिरफ्तारी के साथ खत्म हो गई. नारायण साईं को दिल्ली और सूरत पुलिस के ज्वाइंट ऑपरेशन के तहत गिरफ्तार किया गया. मंगलवार रात को नारायण साईं पुलिस के हत्थे चढ़ा.

58 दिनों से फरार नारायण साईं सूरत रेप केस में आरोपी है. नारायण साईं को दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर से गिरफ्तार किया गया. नारायण साईं को कुरुक्षेत्र के पिपली गांव से गिरफ्तार किया गया. नारायण साईं के साथ उसके चार साथियों को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. नारायण साईं पुलिस को देखकर चौंक गया था. सूत्रों की माने तो नारायण साईं ने पुलिस से प्रार्थना की कि उसे मारे न और न ही उसके साथ बदसलूकी करें. इन चारों के नाम हैं- हनुमान, भाविका, रमेश और विष्णु.

भेष बदल कर घूम रहा था नारायण साईं
खबरों के मुताबिक नारायण साईं सरदार बनकर छिपा हुआ था. पुलिस ने जब उसे गिरफ्तार किया था उस समय वो जींस- टीशर्ट और नारंगी रंग की पगड़ी में था.

ऐसे पुलिस की गिरफ्त में आया नारायण साईं
2 दिसंबरः दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच को सूत्रों से जानकारी मिली कि नारायण साईं लुधियाना में है. क्राइम ब्रांच के 10 अधिकारियों की टीम लुधियाना रवाना हुई.
3 दिसंबरः दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच के 20 और अधिकारी लुधियाना के लिए रवाना हुए.
दिल्ली पुलिस की टीम भी लुधियाना पहुंचने की तैयारी में थी तभी सूचना मिली कि नारायण साईं फोर्ड इको स्पोर्ट्स SUV गाड़ी जिसका रजिस्ट्रेशन नंबर उत्तर प्रदेश का था उसमें बैठकर दिल्ली के लिए रवाना हो चुका है.
दिल्ली पुलिस ने हर उस जगह अपनी टीमें तैनात कर दीं, जहां नारायण साई के जाने की आशंका थी.
दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच अधिकारियों को खबर मिली कि एक फोर्ड इको स्पोर्ट्स गाड़ी जिसका रजिस्ट्रेशन नंबर यूपी-15 से था वो पेट्रोल पंप पर देखी गई है. नारायण साई इस गाड़ी में ड्राइवर रमेश (27), जुवेनाइल कुक, कौशल उर्फ हनुमान (29) के साथ था.
नैशनल हाइवे-1 पर कुरुक्षेत्र के पास पीपली गांव में बुधवार रात को करीब 10 बजे नारायण साईं को गिरफ्तार किया गया. गौरतलब है कि पुलिस ने नारायण साईं को भगोड़ा घोषित कर दिया था. और उसके ऊपर ईनाम भी घोषित किया गया था. नारायण साईं के पिता आसाराम पहले ही जेल में हैं. नारायण साईं की गिरफ्तारी पर दोपहर में 2:30 बजे होगी प्रेस कॉन्फ्रेंस. पुलिस हेडक्वार्टर पर क्राइम ब्रांच करेगी प्रेस कॉन्फ्रेंस.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें