scorecardresearch
 

गणेश पूजा में नहीं दिखेगा ISIS का 'भारतीय चेहरा', वीडियो दिखाने पर विवाद जारी

महाराष्ट्र पुलिस ने गणेशोत्सव के दौरान पूजा मंडलियों को वह वीडियो दिखाने की इजाजत नहीं दी है, जो उन चार युवकों पर आधारित है, जिनके बारे में माना जा रहा है कि वे आईएसआईएस में भर्ती हो गए हैं.

X
कल्याण के उन चार युवकों का स्केच कल्याण के उन चार युवकों का स्केच

महाराष्ट्र पुलिस ने गणेशोत्सव के दौरान पूजा मंडलियों को वह वीडियो दिखाने की इजाजत नहीं दी है, जो उन चार युवकों पर आधारित है, जिनके बारे में माना जा रहा है कि वे आईएसआईएस में भर्ती हो गए हैं.

हालांकि पूजा मंडल समिति के भीकाजी साल्वी ने दावा किया है कि स्क्रीनिंग के मामले में पुलिस कार्रवाई के ख‍िलाफ उन्हें बॉम्बे हाईकोर्ट से स्टे मिल गया है. इस बारे में विवाद बरकरार है.

दरअसल, मुंबई के कल्याण के 'विजय तरुण मंडल' को पुलिस ने नोटिस जारी किया था कि वह गणेश उत्सव के मौके पर दिखाए जाने वाली वीडियो फिल्म से उस हिस्से को हटा दे, जिसमें इलाके के चार मुस्लिम युवाओं को दिखाया गया है. आयोजक मंडल का कहना है कि सामाजिक मसलों पर संदेश देने के लिए वीडियो दिखाए जाने की योजना है.

गणेशोत्सव आयोजकों का कहना है कि 'तरुण विजय मंडल' में हिंदू और मुस्लिम, दोनों ही समुदाय के लोग शामिल हैं, इसलिए उनकी मंशा एकदम साफ है. तरुण विजय मंडल के गणेश उत्सव को शांतिपूर्ण तरीके से आयोजन के लिए कई बार सम्मानित किया जा चुका है.

गौरतलब है कि ऐसी रिपोर्ट आई है कि मुंबई के कल्याण इलाके के चार युवक इराक में आईएसआईस के लिए लड़ने गए हैं. इनमें से एक की मौत भी हो चुकी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें