scorecardresearch
 

रेलवे टिकट की खरीद-फरोख्त करने वालों पर कड़ी कार्रवाई, कई जगह छापेमारी

रेलवे ने रेलवे टिकट की खरीद-फरोख्त करने वालों पर सख्त कार्रवाई की है. 13 तारीख को रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स के डायरेक्टर जनरल अरुण कुमार के दिशा-निर्देश में देश के अलग-अलग हिस्सों में छापेमारी की गई.

फाइल फोटो- भारतीय ट्रेन फाइल फोटो- भारतीय ट्रेन

रेलवे ने रेलवे टिकट की खरीद-फरोख्त करने वालों पर सख्त कार्रवाई की है. 13 तारीख को रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स के डायरेक्टर जनरल अरुण कुमार के दिशा-निर्देश में देश के अलग-अलग हिस्सों में छापेमारी की गई. इस ऑपरेशन का कोड नेम- ऑपरेशन थंडर स्टॉर्म था.

रेलवे की ई-टिकट के द्वारा खरीद-फरोख्त करने वालों के खिलाफ देश के 141 शहरों में छापेमारी की गई. इस कार्रवाई में 387 दलालों को गिरफ्तार किया गया है. ऑनलाइन ई टिकट फ्रॉड के कई बड़े रैकेट पकड़े गए. इस दौरान ई टिकटों और रेलवे के सामान्य टिकटों में भी धांधली करने वाले लोगों के खिलाफ देशभर में कार्रवाई की गई.

तमिलनाडु के सलेम रेलवे डिवीजन पर 128 फ्रॉड ईटिकट बेचने वाले 5 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है. बताया जा रहा है कि इन ईटिकटों का दाम 1.30 लाख से ज्यादा था. कोयंबटूर से 3 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है. कोयंबटूर और सलेम में चले रेलवे पुलिस की कार्रवाई को ऑपरेशन थंडर का नाम दिया गया है.

रेलवे ने यह ऑपरेशन फ्रॉड ई टिकट का सौदा करने वाले लोगों पर लगाम लगाने के लिए किया है. इस ऑपरेशन के दौरान भारतीय रेलवे के अधिकारियों के साथ-साथ कॉर्मशियल और विजिलेंस डिपार्टमेंट भी शामिल रहा.

इस मामले में 8 विशेष आरपीएफ टीमों का गठन किया गया. इस ऑपरेशन में 30 व्यक्तियों की आईआरसीटीसी टिकट यूजर आईडी को सस्पेंड किया गया है. इन ई टिकटों पर 500 से 1000 ज्यादा मुनाफा कमाकर बेचा जा रहा था. गर्मी की छुट्टियों में यात्रियों से दलाल बड़ी रकम वसूल रहे थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें