scorecardresearch
 

2014 में क्यों हुई कांग्रेस की हार? सोनिया ने बताए ये कारण, 2019 पर दिया बड़ा बयान

सोनिया गांधी ने कहा कि 10 साल तक हमारी सरकार सत्ता में रही और 2014 में उसे सत्ता विरोधी लहर का सामना करना पड़ा. शायद जनता नया नेतृत्व चाहती थी और यही हमारी हार की एक प्रमुख वजह रही.

इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में सोनिया गांधी इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में सोनिया गांधी

पिछले लोकसभा चुनाव में 10 साल तक सत्ता में रहने वाली यूपीए सरकार की करारी हार हुई और बीजेपी की अगुवाई वाली एनडीए सरकार सत्ता पर काबिज हो गई. नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने और सत्ता में आते ही उन्होंने कांग्रेस मुक्त भारत का सपना देखा जो साकार होता भी दिख रहा है. लेकिन 2014 में कांग्रेस क्यों हारी इसका सवाल का जवाब तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मुंबई में आयोजित इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में दिया.

सोनिया से जब पूछ गया कि 2014 के चुनाव के बाद कांग्रेस को लगातार हार का सामना करना पड़ रहा है. इसके अलावा बीजेपी ने कई राज्यों में अपनी सरकार बनाई है. इस पर सोनिया गांधी ने कहा कि 10 साल तक हमारी सरकार सत्ता में रही और 2014 में उसे सत्ता विरोधी लहर का सामना करना पड़ा. शायद जनता नया नेतृत्व चाहती थी और यही हमारी हार की एक प्रमुख वजह रही.

कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि 2014 के चुनाव में जिस तरीके की मार्केटिंग नरेंद्र मोदी की ओर से की गई हम उसका सामना नहीं कर पाए. उन्होंने कहा कि आगे में इससे लड़ने की कोशिश करेंगे और भरोसा है कि 2019 में कांग्रेस पार्टी दोबारा वापसी करेगी.

इसके अलावा सोनिया ने कहा कि बीजेपी की तरह से भ्रष्टाचार के मुद्दे को भी बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया गया. उन्होंने हाल ही में आप टू जी केस के फैसले का हवाला देते हुए कहा कि इस मामले से साफ है कि किस तरह से कांग्रेस के खिलाफ दुष्प्रचार किया गया. साथ ही उन्होंने जांच एजेंसियों की भूमिका पर सवाल उठाते हुए कहा कि CAG ने यूपीए के दौरान आए मामलों को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया.

क्या 2019 का चुनाव में उतरेंगी?

सोनिया गांधी से सवाल किया कि 2019 में वो चुनाव लड़ेंगीं या नहीं? इस सवाल के जवाब में सोनिया ने 2019 में चुनाव लड़ने से इनकार नहीं किया. सोनिया ने कहा कि ये पार्टी तय करेगी कि वो चुनाव में उतरेंगी या नहीं. इसका मतलब साफ है कि सोनिया के चुनाव लड़ने का फैसला अब पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी को करना होगा. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें