scorecardresearch
 

EXCLUSIVE: पठानकोट हमले में पाकिस्तान के खिलाफ मिला बड़ा सबूत

पाकिस्तानी फूड पैकेट मिलने पर उन्हें एनआईए के हवाले कर दिया गया है, जो अब जांच के लिए फोरेंसिक लैब (CFSL) भेजे गए हैं.

पठानकोट आतंकी हमले में पाकिस्तान का हाथ होने का सबसे बड़ा सबूत मिला है. मामले की जांच कर रही टीम को अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास सिंबल में पाकिस्तान के लेबल वाले फूड पैकेट मिले हैं.

पाकिस्तानी फूड पैकेट मिलने पर उन्हें एनआईए के हवाले कर दिया गया है, जो अब जांच के लिए फोरेंसिक लैब (CFSL) भेजे गए हैं. बताया जा रहा है कि फूड पैकेट पर 'मेड इन कराची' लिखा था. इनमें शाही पनीर, चिकेन, दाल फ्राई और लाहौरी छोले समेत कई तरह का खाने का सामान था. इसके अलावा 40 दूध के पैकेट भी बरामद हुए हैं, जिनकी मैन्यूफैक्चरिंग डेट 16 नवंबर 2015 और एक्सपायरी डेट 8 फरवरी 2016 थी.

जीपीएस और मोबाइल फोन की खोजबीन जारी
जांच कर रहे अधिकारियों के मुताबिक, आतंकी 31 दिसंबर को घुसे होंगे और पहले उन्होंने एक-दो दिन बीएसएफ की गतिविधियों पर नजर रखी होगी उसके बाद आगे बढ़े होंगे.

बीएसएफ पठानकोट और जम्मू की सीमा पर लगातार छानबीन कर रही है. जीपीएस डिवाइस, मोबाइल फोन और अन्य सामान की तलाश कर की जा रही है, आशंका जताई गई है कि आतंकियों ने सबूत मिटाने के लिए हो सकता है ऐसी चीजों को कहीं छुपाया हो.

एसपी सलविंदर सिंह के खिलाफ नहीं मिले सबूत
सूत्रों के मुताबिक, आतंकी हमले से पहले अगवा किए गए एसपी सलविंदर सिंह के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिला है. लाई डिटेक्टर टेस्ट में भी कुछ भी संदिग्ध नहीं निकला. इसके साथ ही एनआईए के लिए एक और निराशा की बात ये रही कि बामियाल गांव के पास मिले जूतों के निशाने आतंकियों से मेल नहीं खाते.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें