scorecardresearch
 

केजरीवाल ने कन्हैया के भाषण को बताया 'जबरदस्त', कहा- मोदी को किया था आगाह

जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार को गुरुवार शाम अंतरिम जमानत पर रिहा कर दिया गया.

X

देशद्रोह के आरोप में तिहाड़ जेल में बंद जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने रिहा होने के बाद गुरुवार रात जेएनयू में छात्रों को संबोधित किया. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कन्हैया के भाषण को जबरदस्त बताते हुए कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पहले ही आगाह कर चुके थे कि छात्रों पंगा न लें.

पढ़ें- कन्‍हैया@55: पढ़ाई, सिस्‍टम और क्रांति

केजरीवाल ने कन्हैया के भाषण के बाद रात में ट्वीट किया- 'कन्हैया का भाषण जबरदस्त.' इसके बाद शुक्रवार सुबह केजरीवाल ने ट्वीट किया और प्रधानमंत्री मोदी को निशाने पर लिया. उन्होंने लिखा- 'मैंने कई बार बोला था मोदी जी, स्टूडेंट्स से पंगे मत लो. लेकिन मोदी जी नहीं माने.'

सिसोदिया ने भी कसा तंज
दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने भी कन्हैया के समर्थन में ट्वीट किया और केजरीवाल के ट्वीट को साझा करते हुए लिखा- 'कन्हैया और JNU ने देश में फर्जी राष्ट्रवादियों की खतरनाक विचारधारा के खिलाफ निर्णायक जंग की उम्मीद जगा दी है.'

'मोदी, बीजेपी और आरएसएस पर ली चुटकी'
बता दें कि छात्रों के बीच अपने 40 मिनट से अधि‍क के संबोधन में कन्हैया ने कहा कि उनका देश के संविधान में पूरा भरोसा है और पूरी उम्मीद है कि बदलाव आकर रहेगा. जेएनयू विवाद देश के बुनियादी सवालों से ध्यान भटकाने की कोशि‍श है. कन्हैया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्र सरकार, बीजेपी और आरएसएस पर जमकर चुटकी ली, खूब निशाना साधा और इनको हिटलर से भी जोड़ा. कन्हैया ने कहा, 'तुम जितना दबाओगे हम उतनी मजबूती से खड़े होंगे.' संबोधन के अंत में कन्हैया ने 'आजादी' वाले नारे भी लगाए.

'PM 'मन की बात' करते हैं, लेकिन सुनते नहीं'
कन्हैया ने अपने उत्साहपूर्ण भाषण में कहा कि वह यहां लोगों से अपने साथि‍यों से अनुभव साझा करने आए हैं, भाषण देने नहीं. कन्हैया ने कहा, 'अत्याचार के खि‍लाफ जेएनयू ने हमेशा आवाज बुलंद की है. आगे भी करता रहेगा, लेकिन जेएनयू के खि‍लाफ सुनियोजित हमला किया गया. हम भारत से आजादी नहीं, भारत में आजादी मांग रहे हैं.' उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री सिर्फ 'मन की बात' करते हैं, लेकिन सुनते नहीं है. पीएम मोदी को चाहिए कि वह लोगों के मन की बात सुनें और मां की बात भी सुन लें.

कड़ी सुरक्षा के बीच जेल से निकाला गया
बुधवार को हाई कोर्ट ने कन्हैया को छह महीने की सशर्त अंतरिम जमानत दी थी, जिसके बाद पटियाला हाउस कोर्ट ने गुरुवार को रिहाई के आदेश जारी किए. कन्हैया की रिहाई के बाबत जेएनयू छात्र संघ के तमाम कार्यकर्ता तिहाड़ के बाहर कड़ी सुरक्षा के बीच मौजूद रहे.

'दिल्ली में रहेगा कन्हैया'
'आज तक' से बातचीत में कन्हैया के भाई मणिकांत ने कहा, 'कन्हैया अभी दिल्ली में ही रहेगा, बेगूसराय आने का कोई सवाल नहीं उठता.' एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि जो डर गया समझो मर गया. जबकि कन्हैया के पिता जयशंकर सिंह ने कहा कि आरएसएस खुद एक आतंकी संगठन है. इन्होंने ही गांधी जी को मारा था. आज चोर खुद कोतवाल को डांट रहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें